जागरण संवाददाता, सोनीपत: एसटीएफ सोनीपत के हत्थे चढ़े कुख्यात रामबीर ने एटीएम कार्ड के क्लोन तैयार करने की तकनीक यू-ट्यूब के माध्यम से सीखी थी। आरोपित ने बताया है कि उसके साथ 25 गुर्गे काम करते थे। एसटीएफ ने आरोपित को झज्जर की अदालत में पेश कर तीन दिन के रिमांड पर लिया है। अब शराब कारोबारी की हत्या के मामले में जांच कर रही सीआइए झज्जर की टीम आरोपित से पूछताछ कर रही है।

एसटीएफ सोनीपत के प्रभारी इंस्पेक्टर सतीश देशवाल ने बताया कि कटवाल के पास से गिरफ्तार किए गए आरोपित झज्जर के गांव बहराना निवासी रामबीर ने कई खुलासे किए हैं। रात को पूछताछ में उसने बताया कि वह चीन से मशीन 50 हजार रुपये में मंगवाता था। उसी मशीन से एटीएम कार्ड के क्लोन तैयार किए जाते थे। उसने ज्यादातर वारदात उत्तराखंड में की थी। आरोपित ने बताया कि यू-ट्यूब से क्लोनिग करना सीखने के बाद ट्रेडर्स की मदद से चीन से आधुनिक क्लोन तैयार करने वाली मशीन मंगवाई। आरोपित रामबीर पर धोखाधड़ी, आईटी एक्ट समेत गैंगस्टर एक्ट के करीब 120 मुकदमे दर्ज होने का पता लगा चुका है। आरोपित के गिरोह में 25 गुर्गे :

इंस्पेक्टर सतीश देशवाल ने बताया कि आरोपित ने पूछताछ में कहा है कि उसके गिरोह में उत्तरप्रदेश, दिल्ली, राजस्थान, उत्तराखंड व हरियाणा के करीब 25 गुर्गे शामिल हैं। अब एसटीएफ आरोपित के जरिये इसके गुर्गो का पता लगाएगी। हत्या के मामले में तीन दिन के रिमांड पर लिया:

सतीश देशवाल ने बताया कि आरोपित पर झज्जर के गांव बहराना में पांच सितंबर 2021 को शराब ठेकेदार प्रवीन की गोलियां मारकर हत्या का आरोप है। शराब ठेके में सांझेदारी के साथ ही सरपंच चुनाव को लेकर भी उनका झगड़ा था। हत्या के इस मामले में रामबीर को भी नामजद किया था। उस पर 50 हजार का इनाम था। आरोपित को झज्जर की अदालत में पेश कर तीन दिन के रिमांड पर लिया गया है।

Edited By: Jagran