जागरण संवाददाता, सोनीपत : जिले में बारिश के मौसम में डेंगू व मलेरिया की बीमारी न फैले, इससे पहले ही स्वास्थ्य विभाग पहले ही अलर्ट हो गया है। विभाग ने बारिश के एकत्रित पानी में लार्वा रोकने के लिए कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई है। साथ ही घरों में जाकर कूलरों, टायरों आदि में डेंगू व लार्वा की जांच करने के अलावा बीमारियों के प्रति जागरूक अभियान भी तेज कर दिया है। वहीं, सभी चिकित्सा केंद्रों में बीमारियों से संबंधित सुविधाएं भी सु²ढ़ कर दी हैं। अधिकारियों का कहना है कि जिले में दोनों बीमारियों के रोकथाम के लिए ही विभाग कार्य कर रहा है।

गर्मी का सीजन चरम पर है। साथ ही मानसून भी नजदीक है। जिले में कहीं-कहीं बारिश भी शुरू हो गई है। ऐसे में इन दिनों गर्मी के साथ ही बारिश होने के बाद जगह-जगह पानी जमा होने पर उसमें मलेरिया व डेंगू का लार्वा पनपता है। मच्छरों की संख्या में भी इजाफा होता है। वहीं, घरों में कूलरों व छतों पर पड़े टायर या अन्य सामान की सफाई न होने पर उसमें भी लार्वा पनपने की आशंका होती है। जिले में पिछले कई साल से डेंगू व मलेरिया के मरीज सामने आ रहे हैं। हालांकि गत वर्ष बीमारियों पर रोकथाम के लिए अच्छे प्रयास किए थे। इसी के तहत विभाग इस बार भी मानसून से पहले ही सतर्कता बरतने की योजना बनाई है। विभाग ने जहां पहले तालाबों में गंबूजिया मछली छोड़ने के साथ ही जागरूकता अभियान भी चलाया था। वहीं, अब बारिश में मलेरिया व डेंगू का लार्वा न फैले, इस पर रोकथाम के लिए कर्मचारियों की ड्यूटी लगा दी है। कर्मचारी जमा पानी में लार्वा की जांच करेंगे। साथ ही उसे नष्ट करने के लिए कीटनाशक भी डालेंगे। अधिकारियों ने जिले में इस अभियान को तेज कर दिया है।

जिले में डेंगू व मलेरिया बीमारी पर अंकुश लगाना ही विभाग का उद्देश्य है। इसी के तहत बारिश के जमा पानी व घरों में कूलर आदि की जांच करने का निर्णय लिया है। इसके लिए सभी कर्मचारियों की ड्यूटी लगा दी है। आमजन से भी अपील है कि वे अपने घरों व आसपास क्षेत्र में ज्यादा समय तक पानी एकत्रित न होने दें, ताकि लार्वा न पनपे।

डॉ. दिनेश छिल्लर, उप सिविल सर्जन, सोनीपत।

Posted By: Jagran