जागरण संवाददाता, सोनीपत : शहर की सड़कों को बेहतर बनाने के दावे गड्ढों में हिचकोले खा रहे हैं। पिछले कई दिन से चल रही बारिश में शहर के जर्जर मार्गों पर सफर करना जानलेवा हो गया है। गड्ढों में बारिश का पानी भर जाने के कारण गहराई का अंदाजा नहीं हो पा रहा। वाहन चलाना खतरे से खाली नहीं है। दुपहिया वाहन चालक गिरकर चोटिल भी हो रहे हैं, लेकिन पीडब्ल्यूडी और नगर निगम अधिकारियों को लोगों की आह सुनाई नहीं दे रही। शहर के लोग कई बार अधिकारियों को शिकायत दे चुके हैं, जनप्रतिनिधि धरने-प्रदर्शन कर चुके हैं। बावजूद इसके अधिकारियों का इस ओर कोई ध्यान नहीं।

शहर की सड़कों पर कदम-कदम पर गड्ढे हादसों का सबब बन रहे हैं। आए दिन दुपहिया वाहन चालक हादसों का शिकार हो रहे हैं। मार्ग की मरम्मत की मांग करने पर अधिकारी एक-दूसरे विभाग की जिम्मेदारी बता पल्ला झाड़ लेते हैं, जबकि अब हालत ऐसे ही कि आधे घंटे का रास्ता तय करने में ही एक घंटे से ज्यादा का समय लग रहा है। जान का जोखिम सो अलग। यहां टूटी हैं सड़कें :

शहर के गीता भवन चौक आरओबी के पास, ओल्ड डीसी रोड, दिल्ली रोड, पुरखास रोड, मुरथल रोड, रोहतक रोड आरओबी, सोनीपत से बहालगढ़ मार्ग, देवडू और फाजिलपुर रोड, कामी रोड सहित गांवों के संपर्क मार्गों पर गहरे गड्ढे हो गए हैं। इसके साथ ही शहर के सेक्टर-14 में भी सड़कों की स्थिति बदहाल है। स्ट्रीट लाइट बंद होने से रात के समय सड़क पर बने गड्ढे में गिरने के कारण हादसा होने का डर बना रहता है। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्र में भी कई मार्गों पर गड्ढे हो चुके हैं। रोहतक फ्लाईओवर : कभी भी हो सकता है बड़ा हादसा :

वैसे तो शहर के अधिकतर मार्ग जर्जर हालत में है, लेकिन रोहतक रोड फ्लाईओवर का सफर ज्यादा खतरनाक हो गया है। बड़े-बड़े गड्ढे कभी भी किसी बड़े हादसे का सबब बन सकते हैं। औद्योगिक एरिया होने के कारण यहां से बड़े वाहन गुजरते हैं जो संतुलन बिगड़ने पर पलट भी जाते हैं। पिछले दिनों ऐसी कई घटना हो चुकी हैं। गनीमत ये रही कि कोई दूसरा वाहन इनकी चपेट में नहीं आया, जिससे जान-माल की क्षति नहीं हुई। इस क्षेत्र का नगर निगम अधिकारी भी दौरा कर समस्या देख चुके हैं। बावजूद इसके समाधान की ओर कदम नहीं बढ़े हैं। सुनवाई न होने के विरोध में कई गांवों के युवाओं ने खोला मोर्चा :

शिव नारायण सेवा समिति के सदस्यों ने सड़कों की जर्जर हालत को लेकर रोष जताया है। देवडू रोड पर आयोजित समिति की सभा में आसपास के गांवों के युवाओं ने हिस्सा लिया। समिति के अध्यक्ष मनजीत दहिया ने कहा कि नगर निगम और पीडब्ल्यूडी हर साल करोड़ों रुपये मरम्मत पर खर्च किए जाने के दावे तो करते हैं, लेकिन धरातल पर सुधार नजर नहीं आता। समिति कई बार अधिकारियों को हालत से अवगत करवा चुकी है, आमजन की कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही। यदि जल्द ही स्थिति नहीं बदली तो समिति सदस्य अधिकारियों के खिलाफ धरना देंगे। आगामी रणनीति तय के करने के लिए समिति ने रविवार को सभा का आयोजन किया, जिसमें विकास कामी, देवडू से सुभाषचंद्र, जीवन विहार से मनोहर, तिहाड़ से रामबीर, तिहाड़ खुर्द कुलदीप और कंवाली से नितेश मौजूद रहे। सड़कों की मरम्मत का कार्य हाल ही में कराया गया था। बारिश से सड़कों पर गड्ढे बन गए हैं, जिनकी मरम्मत का कार्य बारिश के बाद कराया जाएगा। इसके बाद लोगों को सड़कों पर चलने में किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

- अशोक रावत, एसई नगर निगम

पुरखास रोड सहित कई मार्गों की मरम्मत का एस्टीमेट बनाया गया है। जल्द ही मार्ग को दुरुस्त कर दिया जाएगा। प्राथमिकता के आधार पर मार्गों का निर्माण करवाया जा रहा है। जहां जरूरत है, वहां मरम्मत करवाई जा रही है।

पंकज गौड़, एक्सईएन, पीडब्ल्यूडी।

Edited By: Jagran