हरीश भौरिया, खरखौदा

शहर का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जल्द ही अपग्रेड होकर गर्भवती महिलाओं के लिए सिजेरियन डिलीवरी की सौगात देने वाला है। अब तक जहां सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में सामान्य डिलीवरी ही होती रही है, सिजेरियन डिलीवरी की स्थिति में गर्भवती महिला को नागरिक अस्पताल, सोनीपत या फिर पीजीआइ, रोहतक रेफर किया जाता था वहीं फस्ट रेफरल यूनिट के शुरू होने के बाद यहीं पर सिजेरियन डिलीवरी भी होने लगेंगी, जिससे क्षेत्रवासियों को काफी राहत मिलेगी।

प्रदेश में आपात प्रसूति एवं आवश्यक प्रसूति सेवाओं को गुणवत्तापरक बनाने के उद्देश्य से प्रदेश की वर्तमान मातृ मृत्यु दर व शिशु मृत्यु दर में कमी लाने की तैयारी की गई है। इसके लिए प्राथमिक संदर्भ इकाइयों के रूप में जिला अस्पताल तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों का सु²ढ़ीकरण किया जा रहा है, ताकि आपात प्रसूति सेवाएं जिसके अंतर्गत जटिलता वाले प्रसवों का निदान संस्थागत प्रसव के द्वारा बेहतर किया जा सके। इसके तहत सरकार द्वारा सोनीपत जिले के गोहाना व खरखौदा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों को चिह्नित किया गया है। योजना के तहत चिकित्सा विशेषज्ञ व प्रशिक्षित पैरामेडिकल स्टाफ की सुविधा उपलब्ध कराकर स्थानीय स्तर पर सिजेरियन डिलीवरी की सुविधा दी जाएगी। बढ़ जाएंगी सीएचसी में ये सुविधाएं

खरखौदा के सीएचसी में फस्ट रेफरल यूनिट स्थापित होने के बाद यहां पर फंक्शनल आपरेशन थियेटर काम करने लगेगा। सिजेरियन डिलीवरी के लिए आवश्यक ब्लड की जरूरत को पूरा करने के लिए सीएचसी में ब्लड स्टोरेज यूनिट भी लगाई जाएगी, जिसमें 20 यूनिट ब्लड उपलब्ध रहेगा। योजना के क्रियान्वयन के लिए एक लाख रुपये की ग्रांट सीएचसी में पहुंच चुकी है। ¨चतन शिविर के तहत इस योजना का लाभ खरखौदा क्षेत्रवासियों को मिलने जा रहा है। यूनिट स्थापित होने के बाद सिजेरियन डिलीवरी के लिए जिला स्तर पर जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। इसके साथ ही सीएचसी को इन-पैनल भी किया गया है, जिसके तहत सरकारी महिला रोग विशेषज्ञ के न होने की स्थिति में प्राइवेट चिकित्सक को भी बुलाकर सिजेयिरन डिलीवरी करवाई जा सकेगी। वहीं जल्द ही एक महिला रोग विशेषज्ञ की भी सीएचसी में स्थायी तैनाती कर दी जाएगी।

-डा. जेएस पुनिया, सीएमओ, सोनीपत

Posted By: Jagran