संवाद सहयोगी, खरखौदा : गांव पिपली वासियों के बाद अब फिरोजपुर बांगर वासियों ने भी सरकार से खरखौदा-दिल्ली मार्ग का विस्तारीकरण करते हुए गांवों के बीच से नहीं बल्कि बाहर से बाईपास बनाने की मांग की है। सोमवार को खरखौदा आए मंत्री अनूप धानक को फिरोजपुर बांगर वासियों ने बढ़ते जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए बाईपास निर्माण की मांग करते हुए एक ज्ञान उप-मुख्यमंत्री के नाम सौंपा।

कुछ समय से एचएसआइआइडीसी प्रमुख द्वारा बवाना में उद्योगपतियों के साथ बैठक करते हुए उनकी मांग पर खरखौदा से बवाना तक चार लेन का सड़क मार्ग बनाने की बात कही थी जिसकी सुगबुगाहट पर बीते दिनों पिपली गांव वासियों ने मांग की थी कि खरखौदा से औचंदी बार्डर के लिए हाल समय में जो मार्ग उनके गांव के बीच से होकर गुजरता है उसे चौड़ा करने की बजाए अलग से बाईपास का निर्माण किया जाए, ताकि वाहनों का दबाव न झेलना पड़े।

सोमवार को फिरोजपुर बांगर वासियों ने मंत्री अनूप धानक को एक ज्ञापन उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के नाम सौंपा ग्रामीणों का कहना है कि दिल्ली से सटा हुआ उनका पहला गांव है, जहां पर भारी वाहनों का काफी दबाव रहता है। सड़क के दोनों तरफ गांव बसा होने के कारण ग्रामीणों को सड़क से कई बार इधर से उधर जाना पड़ता है। ऐसे में कई ग्रामीण जहां सड़क हादसे का शिकार हो चुके हैं, कई पशु भी वाहनों की चपेट में आ चुके हैं। हर समय बच्चों के भी वाहनों की चपेट में आने की आशंका बनी रहती है। ऐसे में उनकी मांग है कि दिल्ली व हरियाणा के बीच आवाजाही करने के लिए वैकल्पिक बाईपास की व्यवस्था की जाए। इस दौरान संजीव, प्रवीन, सुमित, जगबीर, कर्मबीर, मनीष, प्रमोद, मोनू, नीरज, समीर, विनीत मौजूद रहे।

Edited By: Jagran