जागरण संवाददाता, गोहाना: केंद्र सरकार की योजना के तहत लोन दिलवाने का झांसा देकर कई महिलाओं से करीब पांच लाख रुपये ठग लिए गए। लोन नहीं मिलने पर पैसे वापस मांगने पर जान से मारने की धमकी दी गई। महिलाओं ने एसडीजेएम की अदालत की शरण ली। अदालत के आदेश पर शहर थाना में पिता-पुत्र सहित तीन के खिलाफ धोखाधड़ी सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया।

शहर में आर्य नगर निवासी सरगम के अनुसार वह एक कंपनी में काम करती थीं, जिसका मैनेजर रवि कपूर था। बाद में उसने कंपनी में काम करना छोड़ दिया। आरोप है कि अगस्त, 2017 में मेरठ निवासी रवि कपूर, गांव डाहर निवासी जितेंद्र के साथ उसके घर आया था। आरोपितों ने केंद्र सरकार की एक योजना का हवाला देकर दो लाख रुपये का लोन दिलवाने का वादा किया। सरगम से उसका आधार कार्ड, वोटर कार्ड और बैंक पासबुक की प्रतियां ली गईं। इनके साथ उसके पांच फोटो और 5677 रुपये शुल्क के रूप में लिए। लोन के लिए महिलाओं के ग्रुप बनाने को कहा गया था। सरगम का कहना है कि सितंबर 2017 में 7500 रुपये के हिसाब से 60 महिलाओं ने लोन के लिए शुल्क दे दिया। करीब सात माह बाद जब कोई सूचना नहीं आई और पानीपत स्थित कार्यालय से संपर्क किया गया, तो वहां ताला लगा मिला। इस पर आरोपितों के खिलाफ अप्रैल, 2018 को सोनीपत में एसपी को शिकायत दी गई। बाद में आरोपितों ने शहर थाना में पहुंच कर पैसे वापस चुकाने का वादा किया, लेकिन जब महिलाओं ने फोन किया तो उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई। सरगम के साथ गुढ़ा गांव की सुषमा व ¨पकी, बुटाना गांव की राजवंती, संतोष व दर्शना और गोहाना शहर की पतासो, निशा, सुदेश, दर्शना, रानी, ममता व मोनिका ने अदालत की शरण ली। अदालत के आदेश पर रवि कुमार, जितेंद्र व उसके पिता राजब¨लद्र के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

Posted By: Jagran