दीपक गिजवाल, सोनीपत

जिले में आए दिन होने वाले सड़क हादसे लोगों के जीवन पर भारी पड़ रहे हैं। शायद ही कोई दिन ऐसा हो जिस दिन कहीं सड़क हादसा न होता हो। जिले की सड़कों पर पिछले तीन वर्षों के दौरान हुए सड़क हादसों पर नजर डालें तो आंकड़े डराने वाले हैं। वर्ष 2015 से अब तक यानी लगभग तीन साल में 2,172 सड़क हादसे हुए हैं और इनमें 1,051 लोग काल का ग्रास बने हैं। यानी प्रतिवर्ष औसतन 750 हादसे हो रहे हैं, जिनमें 400 से अधिक लोग बेमौत मारे जा रहे हैं।

जिले में 34 किमी मौत का हाईवे

जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या एक पर कुंडली से गन्नौर तक का 34 किलोमीटर का एरिया लोगों के लिए मौत का हाईवे बन रहा है। आंकड़ों की बात करें तो जिले में पिछले तीन साल में हुए 2,172 हादसों में से करीब 75 फीसद हादसे हाईवे के इसी हिस्से पर हुए हैं। यही नहीं इन हादसों में हुई 1,051 मौत में से 70 फीसद मौत भी इसी हाईवे पर ही हुई है। कुंडली से गन्नौर के बीच हैं 17 खतरनाक कट व अवैध तरीके से बना दिए गए दर्जनों कट भी लोगों का जीवन लील रहे हैं।

मरने वालों में दोपहिया वाहन चालक अधिक

सड़क हादसों में मरने वालों में अधिकतर दोपहिया वाहन चालक होते हैं। पुलिस प्रशासन की तरफ से सड़क हादसों की समीक्षा में ये बात भी सामने आई थी कि अधिकांश हादसों में मौत की वजह मोटरसाइकिल चालकों का हेलमेट नहीं पहनना रहा। हेलमेट सिर पर हो तो कीमती ¨जदगी बच सकती है। कई घायल तो आज भी ¨जदगी व मौत की जंग लड़ रहे हैं तथा कई घायलों को जीवन भर का दर्द मिल चुका है।

सड़क हादसों की स्थिति

वर्ष हादसे मृत्य घायल

2015 866 401 703

2016 775 411 535

2017 531 240 375

--

जहां कही भी सड़क जर्जर दिखाई देती है हादसे की संभावना होती है, तुरंत ही पीडब्ल्यूडी की ओर से मरम्मत कराई जाती है। जहां दुर्घटना प्वाइंट हैं, उन्हें चिह्नित कर सुधार किया जा रहा हैं। नई सड़क बनाते वक्त भी तकनीक पर विशेष ध्यान दिया जाता है।

एके गोयल, अधीक्षण अभियंता, पीडब्लयूडी

--

राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण व पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को सुधार के निर्देश दिए गए हैं। जिले को दुर्घटना फ्री बनाने की दिशा में काम चल रहा है। अवैध कट बंद भी कराए गए हैं। महाराजा अग्रसेन चौक से लेकर मुरथल चौक, जीटी रोड तक के पांच किलोमीटर के रोड को पहले चरण में दुर्घटना फ्री जोन बनाया जा रहा है। इस पर काम चल रहा है।

केएम पांडुरंग, उपायुक्त

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस