जागरण संवाददाता, गोहाना : दृष्टिहीन लोगों को अब थानों में किसी भी तरह की जानकारी लेने या शिकायत देने आने पर दूसरे लोगों के सहारे की जरूरत नहीं होगी। ऐसे लोगों की सुविधा के लिए गोहाना क्षेत्र के थानों में स्पर्शनीय यंत्र और उपकरण लगाए गए हैं। दृष्टिहीन या कम दिखाई देने वाले लोग प्रवेश द्वार पर लगे यंत्र को छूकर थाना के पूरे लेआउट (कहां क्या बना है) को जान सकेंगे। इसके बाद वे थाने में खुद संबंधित अधिकारी के पास पहुंच सकेंगे। दीवारों और फर्श पर भी सुविधा के लिए उपकरण लगाए गए हैं।

अंधता का शिकार लोगों को थानों में कोई शिकायत देने या जानकारी लेने के लिए अपने किसी स्वजन या परिचित को साथ लेक जाना पड़ता है। कई बार ऐसे लोग साथ में दूसरे व्यक्ति होने पर खुल कर अपनी बात नहीं बता पाते हैं। काफी दृष्टिहीन लोग स्पर्शनीय तकनीकी से शिक्षा ग्रहण करते हैं। अब ऐसे लोगों को थानों के अंदर जाने में किसी दूसरे व्यक्ति के सहारे की जरूरत नहीं होगी। गोहाना क्षेत्र के थानों में प्रवेश द्वारों पर ऐसे यंत्र लगाए गए हैं, जिनमें थाने के पूरे भवन का लेआउट है। लेआउट में थाना प्रभारी के कक्ष, जांच अधिकारी के कक्ष, बैरक, भोजनालय, अभिलेख कक्ष, महिला हवालात, मालखाना, आंगन समेत सभी जानकारी हैं। थाने की दीवारों पर ऐसे उपकरण लगाए गए हैं, जिनसे दृष्टिहीन व्यक्तियों को पता चल सकेगा कि वे कितनी दूर तय कर चुके हैं और किस अधिकारी के कमरे के पास पहुंच गए हैं। फर्श पर भी अलग से पट्टी लगाई गई है, जिससे पहचान में सुविधा मिलेगी। इस व्यवस्था में दृष्टिहीन व्यक्ति थाने के भीतर अगले जाकर बिना संकोच के शिकायत दर्ज करवाने के साथ किसी भी तरह की जानकारी ले सकेंगे।

विभाग द्वारा थाने में स्पर्शनीय लेआउट की व्यवस्था कर दी गई है। अंधता का शिकार लोगों को थाने में किसी दूसरे के सहारे की जरूरत नहीं पड़ेगी। प्रवेश द्वार पर लगाए गए स्पर्शनीय लेआउट के पास सहायता के लिए पुलिस कर्मचारी भी रहेगा।

- बदन सिंह, प्रभारी, शहर थाना गोहाना

Edited By: Jagran