संवाद सहयोगी, गोहाना : सितंबर की शुरुआत से ही भारी बारिश हो रही है। बारिश से विभिन्न गांवों के तालाब ओवरफ्लो होकर पानी गलियों, खाली प्लाटों और खेतों में भरा हुआ है। इससे ग्रामीणों को आवाजाही में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। पानी घरों की दीवारों के साथ ही बह रहा है। घरों की दीवारों में दरारें आने का खतरा बना हुआ हे। ग्रामीणों ने अधिकारियों को जल्द ही पानी निकासी कराने की मांग की।

गांव आहुलाना के तालाब ओवरफ्लो होकर पानी गलियों और घरों में घुस गया है। मादा वाला तालाब, लेट (छोटा तालाब), बच्छा वाला तालाब, सुरजे वाला तालाब व खाली पड़े प्लाट बारिश के पानी से भरे हैं। प्रजापति व कश्यप मोहल्ले में पानी घरों की दीवारों के साथ बह रहा ह, जिससे घरों की दीवारों में दरारें आ चुकी हैं। लोगों को घर ढहने का खतरा बना हुआ है।

इन गांवों में है जलभराव

गांव मदीना, भंडेरी, छिछड़ाना, कथूरा में फसलें जलमग्न हैं। उधर गोहाना-जुलाना रोड के गांव बरोदा, धनाना, बनवासा, रिढ़ाना, कैहल्पा, छपरा गांव में की गलियों में भी पानी भरा हुआ है। जींद रोड स्थित गांव बुटाना, घड़वाल, नूरनखेड़ा, ईशापुर खेड़ी, भावड़ के अलावा पानीपत रोड शामड़ी, चिड़ाना, सरगथल, कासंडा-कासंडी, खानपुर कलां, जौली, लाठ, कटवाल, भैंसवाल कलां, बली ब्रहमणान, रभडा, रुखी गांव के तालाब ओवरफ्लो हो चुके हैं। ग्रामीणों को पानी से होकर गुजरना पड़ता है। पानी निकासी की मांग को लेकर प्रतिदिन ग्रामीण एसडीएम कार्यालय व सिचाई विभाग कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं।

103 पंपसेट और 115 बिजली कनेक्शन जारी किए

एसडीएम आशीष वशिष्ठ अधिकारियों को फील्ड में अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही सिचाई विभाग ने 103 पंपसेट लगा रखे हैं और बिजली निगम ने करीब 115 बिजली कनेक्शन जारी कर रखे हैं। इसके अलावा आसपास के जिलों से पंपसेट लिए जा रहे हैं।

Edited By: Jagran