जागरण संवाददाता, सोनीपत : पंचशील कॉलोनी में बहन रीना मलिक की हत्या करने के आरोपित रविद्र उर्फ पाल्लू के साथ जो दूसरा आरोपित शामिल है, वो महज छह महीने पहले ही रविद्र के संपर्क में आया था। दोनों की फेसबुक के जरिए दोस्ती हुई। आपस में बातचीत होने लगी। हत्या की वारदात से दो दिन पहले ही रविद्र उर्फ पाल्लू ने झज्जर के गांव बराही के रहने वाले दीपक को अपने पास सोनीपत बुलाया था। इसके बाद रविद्र ने दीपक के साथ बहन के चरित्र को लेकर बातचीत की। इस पर रविद्र ने उसे मन की बात बताई तो दीपक हत्याकांड में शामिल होने को राजी हो गया। बाद में दोनों ने चाकू से गोदकर रीना की हत्या कर दी। फिलहाल, पुलिस आरोपित को दो दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है। आरोपित ने बताया है कि बहन को हर वक्त फोन पर बिजी देख शक हुआ। टोकने पर वह झगड़ा करती थी। समाज में बदनामी के डर से हत्या कर दी।

मूलरूप से गांव रभड़ा की रहने वाली रीना मलिक (35) फिलहाल पंचशील कॉलोनी में रहती थी। उसने यहां पर अपना पीजी खोल रखा था। रीना मलिक का भाई रवींद्र उर्फ रजनीश डेढ़ माह से इसी पीजी में बने कमरे में उसके साथ रह रहा था। इससे पहले वह कभी-कभार बहन के पास आ जाता था, लेकिन डेढ़ माह से वह उसके साथ ही रह रहा था। यहां पर उसे अपनी बहन के चरित्र पर शक हो गया। इसके चलते ही उसने अपने दोस्त गांव बराही के रहने वाले दीपक को अपने पास बुलाया था। पुलिस के मुताबिक रवींद्र ने बताया है कि सोमवार रात को वह तथा उसका दोस्त दीपक रीना के कमरे में गए थे। उन्होंने रीना को अपना व्यवहार सुधारने व चरित्र सही रखने को कहा था। जहां पर रीना ने उनकी बात मानने की बजाय उनके साथ कहासुनी कर दी थी। जिस पर दीपक ने उसकी बहन को पकड़ लिया था और उसने घर में रखे चाकू से कई वार कर हत्या कर दी थी। पुलिस ने पीजी में रहने वाले फरीदाबाद निवासी डेनी पाउल के बयान पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर दोनों को गिरफ्तार किया था।

बहन की हत्या के आरोपित रविद्र व उसके दीपक को दो दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है। आरोपित बताया है कि बहन को हर वक्त फोन पर बिजी देख कर उसे शक हुआ। जब उसे टोका तो वह झगड़ा करने लगी। इसी को लेकर वारदात को अंजाम दिया।

- संजीव कुमार, जांच अधिकारी, सिविल लाइन थाना

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस