सोनीपत [डीपी आर्य]। सिटी थाने में एसआइ के साथ दुष्कर्म का प्रयास किया गया। आरोपित एएसआइ ने उसको महिला पुलिसकर्मियों के कक्ष में अकेली पाकर दबोच लिया और वहां बेड पर डाल लिया। उसने एसआइ को जान से मारने और किसी को घटना की जानकारी देने पर नौकरी से निकलवाने की धमकी दी। आरोपित उससे पहले भी थाने में उसके साथ कई बार अश्लीलता कर चुका था। उसने एसआइ को कार में बैठाकर भी आपत्तिजनक व्यवहार किया। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच डीएसपी को सौंपी है। आरोपित एएसआइ की गिरफ्तारी की मांग को लेकर प्रमुख सामाजिक संगठनों के लोगों ने मंगलवार दोपहर को एसपी और उपायुक्त से मुलाकात की।

काम सिखाने के बहाने करता था गलत हरकत

एक महिला एसआइ ने एसपी को बताया कि वो जींद जिले की रहने वाली है और सिटी थाना में तैनात है। उसको केस की जांच करने और आइओ का काम सिखाने के लिए एएसआइ सतीश सिंह को कहा गया था। सतीश उसको काम सिखाता, लेकिन साथ ही गलत नजर रखने लगा। वह कई बार द्विअर्थी शब्दाें का प्रयोग करता और उसको संवेदनशीन स्थान पर स्पर्श करता।

अकेली पाकर पीछे से दबोचा

एसआइ आरंभ में संकोचवश शांत रही, इससे आरोपित का दुस्साहस बढ़ता गया। एसआइ ने बताया कि करीब 14-15 दिन पहले वह थाने में ही काम कर रही थी। इसी बीच एएसआइ सतीश ने उसको पीछे से दबाेच लिया और अश्लीलता की। इस पर वह विरोध करते हुए वहां से बाहर आ गई। अगले दिन आरोपित ने उसको पुलिस लाइन से अपनी कार में जबरन बैठा लिया। रास्ते में उसने अश्लीलता कि तो वह उसकी कार से उतर गई।

जान से मारने की धमकी भी दी

एसआइ ने बताया कि 29 अगस्त को वह थाने में महिला कक्ष में बैठी थी। उसकी सीट सतीश के कक्ष में थी, लेकिन वह डर की वजह से वहां पर नहीं गई। कुछ देर बात एएसआइ सतीश महिला कक्ष में आ गया और उसने एसआइ को दबोच लिया। उसने धक्का देकर उसको पलंग पर गिरा लिया और दुष्कर्म का प्रयास करने लगा। विरोध करने पर आरोपित ने जान से मारने की धमकी देने के साथ ही उसको नौकरी से निकलवाले की चेतावनी दी। एसपी के आदेश पर सिटी थाना पुलिस में आरोपित एएसआइ सतीश के खिलाफ दुष्कर्म का प्रयास करने, जान से मारने की धमकी देने और जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल करने की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।

एएसआइ को किया सस्पेंड

पुलिस विभाग में दिनभर चर्चा रही कि आरोपित एएसआइ सतीश को सस्पेंड कर दिया गया है, लेकिन कोई भी अधिकारी इस पर आन रिकार्ड बोलने को तैयार नहीं है। वहीं पीड़िता एसआइ को शहर थाना से राई में ट्रांसफर कर दिया गया है। महिला एसआइ ने आरोप लगाया है कि एस पर रिपोर्ट वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा है। आरोपित के पक्ष के लोग उसको लगातार धमकी दे रहे हैं।

एसपी-डीसी को सौंपा ज्ञापन

अंबेडकर विचार मंच और अन्य सामाजिक संगठनों की ओर से मंगलवार को मिनी सचिवालय पर प्रदर्शन किया गया। सामाजिक संगठनों ने आरोपित एएसआइ सतीश को तत्काल गिरफ्तार करने और ऐसी कुत्सित मानसिकता वाले व्यक्ति को पुलिस सेवा से बर्खास्त कर किया जाए। इसका ज्ञापन एसपी के साथ ही डीसी को भी सौंपा गया। एसपी ने प्रतिनिधिनिध मंडल को निष्पक्ष और न्यायापूर्ण कार्रवाई का भरोसा दिया है।

Edited By: Prateek Kumar