जागरण संवाददाता, सोनीपत : कोरोना महामारी से निपटने के लिए जिले में बृहस्पतिवार शाम को 12 हजार 530 वैक्सीन सोनीपत पहुंची। जिला नागरिक अस्पताल में स्वास्थ्यकर्मियों ने वैक्सीन का स्वागत किया। इसके बाद सिविल सर्जन की निगरानी में वैक्सीन को रेफ्रिजरेटर में रखवाया गया। अब शनिवार को वैक्सीन लगाने का प्रथम चरण का अभियान शहर के चार केंद्रों पर शुरू होगा। इस चरण में स्वास्थ्यकर्मियों को ही कोरोना वैक्सीन लगेंगी, जिसके लिए जिला स्वास्थ्य विभाग ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं।

जिले में पिछले साल मार्च से शुरू हुआ कोरोना संक्रमण का सिलसिला अब भी जारी है। हालांकि कोरोना संक्रमण के नए केसों में कमी जरूर आई हैं, लेकिन संक्रमण पर पूरी तरह से रोक नहीं लग पा रही है। इस महामारी पर रोकथाम के लिए हर कोई काफी समय से वैक्सीन आने का इंतजार कर रहा है, जो बृहस्पतिवार को खत्म हुआ। महामारी से निपटने के लिए जिला नागरिक अस्पताल में कोरोना वैक्सीन की पहली खेप पहुंची। जिला की टीम की ओर से कुरुक्षेत्र स्टेट वैक्सीन स्टोर से 12 हजार 530 डोज को सुरक्षा के बीच लाया गया। इसके लिए स्वास्थ्यकर्मियों ने जहां पहले वैक्सीनेशन वैन को पूरी तरह से सजाया था, वहीं वैक्सीन लेकर अस्पताल में पहुंचने पर उसका विधिवत रूप से स्वागत किया गया। इस अवसर पर सिविल सर्जन डा. जसवंत पूनिया, उप सिविल सर्जन एवं वैक्सीन नोडल अधिकारी डा. नीरज यादव, डा. जयकिशोर, डा. तरुण यादव, जिला वैक्सीन कोल्ड एंड चेन हेल्डर ईश्वर सिंह मौजूद रहे। इन केंद्रों पर होगा टीकाकरण

जिला स्वास्थ्य प्रबंधन ने टीकाकरण अभियान के लिए जिलेभर में कुल 49 केंद्र निर्धारित किए हैं। इनमें 33 राजकीय व 16 निजी केंद्र हैं। पहले चरण में छह केंद्रों को चयनित किया गया था, लेकिन अब चार केंद्रों पर ही टीकाकरण होगा। इनमें जिला नागरिक अस्पताल, खानपुर कलां स्थित बीपीएस महिला मेडिकल कालेज, मुरथल स्थित प्राथमिक चिकित्सा केंद्र व निदान अस्पताल शामिल हैं। गन्नौर व बढ़खालसा सीएचसी पर अभी टीकाकरण नहीं होगा। बृहस्पतिवार को जिला नागरिक अस्पताल में पहुंची वैक्सीन की पहली खेप में कुल 12 हजार 530 डोज हैं। इनमें 2,200 कोवैक्सीन व 10 हजार 320 कोविशील्ड हैं। मुरथल में कोवैक्सीन व अन्य केंद्रों पर लगेगी कोविशील्ड

अस्पताल परिसर में पहुंची सभी वैक्सीन फिलहाल रेफ्रिजरेटर में ही रहेंगी। इन्हें 2 से 8 डिग्री के बीच रखा जाएगा। इसके बाद शुक्रवार शाम को वैक्सीनेशन वैन से वैक्सीन चयनित केंद्रों पर पहुंचेंगी। यहां भी चिकित्सकों की निगरानी में रखी जाएगी। इसके बाद शनिवार से 2200 कोवैक्सीन का प्रयोग मुरथल पीएचसी और 10 हजार 320 कोविशील्ड का प्रयोग अन्य तीनों केंद्रों पर होगा। हर केंद्र पर प्रतिदिन 100 स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन लगेगी। इसके लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। बृहस्पतिवार को सभी संबंधित स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन की देखरेख, वैक्सीन लगाने और उसके बाद लाभार्थी की देखभाल तक की ट्रेनिग दी गई। सात एलाज्मा किट मिली

जिला स्वास्थ्य प्रबंधन ने वैक्सीन के टीकाकरण अभियान के साथ ही एंटीबाडी टेस्ट कराने का भी निर्णय लिया है। इसके लिए अस्पताल प्रबंधन को सात एलाज्मा किट मिली हैं। हर किट में 92 सैंपल लिए जाएंगे। शुक्रवार से इसकी शुरुआत हिदू कालेज के 50 कर्मचारियों के सैंपल के साथ की जाएगी। जांच के लिए अस्पताल प्रबंधन ने दूसरी बिल्डिंग पर कमरा नंबर-8 में बनी डेंगू जांच लैब में सुविधा की गई है। यहां एक पैथोलाजी व तीन लैब अटेंडेंट की ड्यूटी लगाई है। अगर किसी को एंटीबाडी की जांच करानी है तो उसे पहले चिकित्सक से ओपीडी में लिखवाना होगा।

वैक्सीनेशन की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इससे संबंधित टीमों को ट्रेनिग दे दी हैं। पहले चरण के अनुसार पांच हजार स्वास्थ्यकर्मियों को ही वैक्सीन लगाई जाएंगी। अन्य को मुख्यालय से वैक्सीन मिलने के बाद ही लगाई जाएगी। इसी तरह अलग-अलग चरणों में टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा।

- डा. जसवंत पूनिया, सिविल सर्जन, सोनीपत

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021