जागरण संवाददाता, सिरसा :

हरियाणा मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव एसोसिएशन की शनिवार को निजी हॉल में बैठक हुई। एसोसिएशन के प्रदेश महासचिव कुलवंत राय ने कहा कि अपने हकों की लड़ाई लड़ने के लिए सभी को एकजुट होने की जरूरत है। आमजन का हित किसी भी सरकार के लिए सर्वोपरि होता है, मगर मौजूदा केंद्र सरकार आमजन का हितैषी बनने की बजाए उनके अधिकारों का हनन करने पर तुली हुई है। इसी क्रम में लेबर नियमों में की गई तब्दीली एक स्पष्ट प्रमाण है। लेकिन दवा प्रतिनिधि इसे लेकर किसी भी सूरत में चुप नहीं बैठेंगे। उन्होंने कहा कि 8 जनवरी से दो दिवसीय राष्ट्रव्यापी हड़ताल की जाएगी। हड़ताल के दौरान केंद्र सरकार से विभिन्न मांग न्यूनतम वेतन 18000 रुपये करने, ठेकेदार भर्ती बंद करवाने, दवाइयों व मेडिकल उपकरणों पर जीएसटी खत्म करने, दवा विक्रेताओं का कार्य करने का समय सुनिश्चित, सेल्ज को लेकर कंपनियों द्वारा किसी भी दवा प्रतिनिधि को प्रताड़ित एवं शोषण न करने, सेल्ज प्रमोशन इंप्लाई एक्ट को लागू करने, जीपीएस ट्रै¨कग प्रणाली समाप्त करने, ई-फार्मेसी एवं ऑनलाइन दवा बिक्री बंद करने, दवा प्रतिनिधियों का सेल्ज टारगेट खत्म करने इत्यादि को पूरा करने की मांग की जाएगी। इस अवसर पर एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष सुशील शर्मा, नवनीत कंबोज, परमपाल ¨सह, प्रीतपाल ¨सह, अमित मेहता, विकास कंबोज, अमन खुराना, अमित टूटेजा, अमित लूथरा व राज अरोड़ा मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप