जागरण संवाददाता, सिरसा : कांग्रेस पार्टी द्वारा किए गए भारत बंद का सिरसा जिले में कुछ खास असर देखने को नहीं मिला। सिरसा शहर व ऐलनाबाद में सुबह सवेरे कांग्रेस पार्टी के नेता व कार्यकर्ता बाजारों में बंद की अपील करते नजर आए। दो तीन घंटे बाजार बंद भी रहे, उसके बाद अधिकतर बाजार खुल गए। रानियां, कालांवाली, डबवाली में बंद बेअसर रहा। वहां आम दिनों की तरह दुकानें खुली।

अखिल भारतीय कांग्रेस के आह्वान पर जिला कांग्रेस द्वारा सोमवार को शहर के बंद का आह्वान किया गया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चौ. रणजीत ¨सह, प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष व जिला प्रभारी जयपाल ¨सह लाली, होशियारी लाल शर्मा, नवीन केडिया, शीशपाल केहरवाला, भूपेश मेहता के सामूहिक नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ता भगत ¨सह चौक में एकत्रित हुए। उसके बाद अलग-अलग समूहों में नगर के मुख्य बाजारों में जाकर दुकानदारों से दुकानें बंद करने की अपील की। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि मोदी सरकार में डीजल व पेट्रोल के मूल्यों में हर रोज हो रही बेतहाशा वृद्धि के चलते आम जनमानस का जीवन बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है और लोगों की आर्थिक स्थिति दिन प्रतिदिन कमजोर होती जा रही है।

शहर के अंदरूनी बाजारों में बंद का असर

बंद का असर रोडी बाजार, भादरा बाजार, घंटाघर चौक, जगदेव ¨सह चौक, पुरानी सब्जी मंडी, सदर बाजार, सुरतगढि़या चौक इत्यादि पर सुबह सवेरे से दिखाई दिया। जबकि शहर के बाहरी क्षेत्र के बाजारों डबवाली रोड, हिसार रोड, बस स्टैंड, बरनाला रोड आदि आम दिनों की तरह खुले रहे। करीब 11 बजे के बाद अधिकतर बाजार धीरे-धीरे खुलना शुरू हो गए। बंद की अपील करने वाले कांग्रेसी नेता वापिस जा चुके थे। सुरक्षा के ²ष्टिगत दिनभर पुलिस तैनात रही। वामपंथियों ने भी दिया बंद को समर्थन:

पेट्रोल-डीजल की बढ़ी हुई कीमतों, महंगाई, बेरोजगारी और केन्द्र व प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ भारत बंद के समर्थन में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, सीपीएम, के अलावा वामपंथी छात्र संगठन ऑल इंडिया स्टूडेंटस फेडरेशन (एआइएसएफ) के कार्यकर्ताओं ने बंद में हिस्सा लिया। प्रदर्शन का नेतृत्व भाकपा नेता जगरूप ¨सह चौबुर्जा, विजय ढुकड़ा, तिलकराज विनायक और एआईएसएफ नेता रोशन सुचान, मनदीप आजाद, अनिल और मुकेश कर रहे थे। रोड़ी बाजार में युवाओं ने जबरदस्ती बंद करवानी चाही दुकानें, तो भड़के दुकानदार

बंद के दौरान करीब 11 बजे कुछ युवाओं ने रोड़ी बाजार में जबरन दुकानें बंद करवाने का प्रयास किया। गली फैशन कैंप वाली में रेडीमेड कपड़ों की दुकान में घुसे युवाओं ने जबरन शटर गिराने का प्रयास किया तो मार्केट के दुकानदार एकजुट हो गए और उनका विरोध करना शुरू कर दिया। दुकानदारों ने कहा कि गुंडागर्दी से दुकानें बंद करवाना सही नहीं है। इसके बाद युवाओं ने सुभाष चौक पर भी जबरदस्ती दुकानें बंद करवाने की कोशिश की तथा दुकानदारों से बहस की। जिसके जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंच गई, लेकिन तब तक प्रदर्शनकारी जा चुके थे। इस घटना के बाद मुख्य बाजारों में पुलिस की जिप्सियां तैनात कर दी गई। रोजाना के बंद से तंग आए दुकानदार

बंद के दौरान बेशक दुकानदारों ने कांग्रेसी नेताओं की अपील पर दुकानों के शटर गिरा दिए परंतु रोज रोज होने वाले बंद से दुकानदार तंग आ चुके हैं। दुकानदारों श्याम लाल, दवेंद्र, सागर, सोनू, राजू इत्यादि ने बताया कि राजनैतिक पार्टियों के बंद व प्रदर्शन से उनके काम धंधे चौपट कर दिए है। शनिवार को इनेलो का बंद था तो रविवार को वैसे मार्केट बंद रहती है। सोमवार को कांग्रेस का बंद आ गया। दुकानदारों ने बताया कि दुकानों का किराया, लड़कों की तनख्वाह, बिजली बिल इन सबको मिलाकर खर्चा निकालना भी बहुत मुश्किल हो गया है। बंद के कारण बाजारों में खरीददारी करने आए लोगों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा। गांवों से सामान खरीदने आए लोगों ने बताया कि उन्हें बंद का पता नहीं था। सोमवार होने के कारण वे सुबह ही शहर आ गए, यहां आकर बंद का पता चला। जिस कारण परेशानी झेलनी पड़ी। हालांकि दोपहर बाद तक बाजार आम दिनों की भांति खुल गए। रानियां में नहीं दिखा बंद का असर

संवाद सूत्र, रानियां : कांग्रेस की तरफ से सोमवार को भारत बंद का रानियां शहर में कोई असर देखने को नहीं मिला। दिनभर रानियां शहर में बाजार सामान्य रूप से खुले रहे तथा बाजारों में सामान्य तरीके से कामकाज होता रहा। लोगों की दिनचर्या भी सामान्य ही रही। रानियां शहर में दुकानें, पेट्रोल पंप, ट्रांसपोर्ट सेवा सहित अन्य सभी सेवाएं सुचारू रूप से चलती दिखीं। भारत बंद की बजाय अपना विजन व उपलब्धियों पर बात करें कांग्रेस: य¨तद्र ¨सह

सिरसा : कांग्रेस द्वारा किये गए भारत बंद पर प्रतिक्रिया करते हुए भाजपा जिला अध्यक्ष य¨तद्र ¨सह एडवोकेट ने कांग्रेस को नसीहत दी कि वह भारत बंद की बजाय अपना विजन, अपनी सोच, अपनी उपलब्धियों की बात करें। आज मतदाता जागरूक है उसे भ्रमित नहीं किया जा सकता, जो कि आज के असफल बंद से जाहिर हो रहा है । बंद का आयोजन करने से पहले कांग्रेस अपने शासनकाल की उपलब्धियों में झांक लेती तो बेहतर होता। उन्होंने कहा कि दस साल के यूपीए सरकार के शासन में पेट्रोल की कीमत में 42 रुपये बढ़ोतरी हुई थी और भाजपा के शासन के 4 सालों में मात्र 4 रुपये की बढ़ोतरी हुई है। कांग्रेस बंद का एक मात्र उद्देश्य है जनता को बरगलाना और सत्ता तक पहुंचना। दोपहर तक बंद रहा ऐलनाबाद

संवाद सूत्र ऐलनाबाद

कांग्रेस पार्टी के भारत बंद आह्वान पर ऐलनाबाद के बाजार दोपहर तक बंद रहे। कांग्रेस कार्यकर्ता गांधी चौक स्थित कार्यालय पर एकत्रित हुए। कांग्रेस नेता रमेश भादू ने कहा

कि साढ़े चार साल में मोदी सरकार ने जनता के साथ सिर्फ धोखा किया है। गैस तथा तेल की कीमतों में बेतहाशा बढ़ोतरी कर जनता की कमर तोड़ दी। उन्होंने सभी कांग्रेसजनों को साथ लेकर पूरे बाजार के सभी दुकानदारों से बाजार बंद करवाया। इस बंद में उनके साथ राय ¨सह भाम्भू, देवीदान चारण, हरिकिशन कंबोज, चिरंजी लाल ¨सगला, गुर¨वदर बराड़, का. सुरजीत ¨सह, प्रीतपाल सिद्धू, नत्थू राम बरावड सरपंच ढाणी शेरा, होशियार ¨सह, पूर्व सरपंच सतपाल भाकर, पूर्व सरपंच आत्म प्रकाश, राम प्रताप ¨सहमार, रूप कुमार तरड़ कुमथल, दौलत राम ढाका उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran