जागरण संवाददाता, सिरसा : सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को व्यावसायिक शिक्षा भी दी जा रही है। स्कूलों में व्यवसायिक कोर्स लेकर पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों को देश व विदेश में रोजगार दिलाने का कार्य किया जाएगा। जिसके लिए शिक्षा विभाग ने जर्मनी की कंपनी से अनुबंध किया है। हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद द्वारा नेशनल स्किल्स क्वालिफिकेशन फ्रेमवर्क (एनएसक्यूएफ) योजना के तहत जर्मनी की 2 काम्स कंपनी की ओर से विशेष काउंसिलिग करवाई जाएगी। इस काउंसिलिग में उन्हीं विद्यार्थियों को शामिल किया जाएगा जो विद्यार्थी बारहवीं उत्तीर्ण कर चुके हैं या जो वर्तमान में सरकारी स्कूल में व्यावसायिक कोर्स लेकर पढ़ाई कर रहे हैं।

------

66 स्कूलों में चल रहे हैं व्यावसायिक कोर्स

शिक्षा विभाग द्वारा जिले के 66 सरकारी स्कूलों में आइटी, रिटेल, ब्यूटी एंड वेलनेस एंड रिटेल, आटोमोबाइल व शारीरिक शिक्षा, सिक्योरिटी, कृषि व अन्य व्यावसायिक कोर्स शुरू किए गये हैं। विद्यार्थियों को रोजगार देने के लिए परियोजना परिषद द्वारा पोर्टल पर सभी का रजिस्ट्रेशन किया गया है। इसके बाद सभी विद्यार्थियों की पूरी प्रोफाइल तैयार की जाएगी। इसके बाद जर्मनी की कंपनी के साथ विद्यार्थियों की काउंसिलिग करवाई जाएगी। जिससे स्कूलों के विद्यार्थियों को रोजगार मिल सके।

-----

जर्मनी की कंपनी से हुआ है अनुबंध

समग्र शिक्षा अभियान के सहायक परियोजना अधिकारी नरेंद्र शम्मी ने कहा कि व्यावसायिक शिक्षा के विस्तार के साथ न केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी मांग है। व्यावसायिक शिक्षा हासिल करने वाले विद्यार्थियों के जीवन यापन करने के लिए कई अवसर हैं। कई देश अपनी परियोजनाओं और आवश्यक सेवाओं के लिए पेशेवरों की तलाश कर रहे हैं। जिनमें जर्मनी, संयुक्त अरब अमीरात, कनाडा जैसे देश शामिल है। यह देश ऐसे उम्मीदवारों की तलाश में हैं जो वहां काम कर सकें और वहां बस सकें। स्कूलों में व्यावसायिक कोर्स लेकर पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों की जर्मनी की कंपनी से काउंसिलिग करवाई जाएगी। विभाग का कंपनी के साथ अनुबंध हुआ है।

Edited By: Jagran