संवाद सूत्र, बड़ागुढ़ा : दैनिक जागरण के पराली नहीं जलाएंगे, पर्यावरण को बचाएंगे अभियान के तहत गांव मल्लेवाला स्थित राजकीय स्कूल के विद्यार्थियों ने गांव में जागरूकता रैली निकाली। रैली के माध्यम से विद्यार्थियों ने पराली नहीं जलाने का संदेश दिया। इससे पहले स्कूल के मुख्याध्यापक मदन लाल ने जारूकता रैली को रवाना किया। विद्यार्थी पराली नहीं जलाएंगे, पर्यावरण बचाएंगे नारे लगाते हुए गांव की हर गली से होकर गुजरे। मुख्याध्यापक मदनलाल ने कहा कि फसलों के अवशेष जलाने से न केवल पर्यावरण प्रदूषित होता है। इससे भूमि की उपजाऊ शक्ति भी खत्म होती है। पर्यावरण संरक्षण के लिए सभी को आगे आना होगा। क्योंकि दूषित वातावरण से अनेकों बीमारियां उत्पन्न हो रही हैं, जो मनुष्य के साथ-साथ जीव-जंतुओं के लिए भी हानिकारक है। उन्होंने पराली जलाने की इस समस्या से निपटने के लिए विद्यार्थियों को अपने अभिभावकों को भी जागरूक करने की प्रेरणा दी।

उन्होंने कहा कि हम सभी को मिलकर काम करना होगा। इसके लिए ग्रामीणों को पराली को न जलाकर इस दिशा में अहम भूमिका निभानी होगी। मास्टर हरनेक चंद ने बताया कि उन्होंने धान कटाई के बाद पराली न जलाकर रोलर मशीन द्वारा पराली की गांठे बनाते हैं। पर्यावरण संरक्षण में दे रहे हैं सहयोग

महिला सरपंच किरणजीत कौर व दर्शन सिंह ने बताया कि गांव में घग्गर नदी के किनारे बसे होने के कारण नरमा की फसल के साथ साथ धान की खेती भी की जाती है। इसके बावजूद भी जागरूक किसान अन्य तरीके अपनाकर पराली न जलाकर पर्यावरण संरक्षण में पूर्ण सहयोग दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि ग्राम सभा की बैठक में भी ग्रामीणों को पराली न जलाने की अपील की गई है। इस अवसर पर हरनेक चंद, जगदीश राय, छबील दास, कृष्ण लाल, सुषमा रानी, रजनम गुप्ता, रमेश लाल, शर्मीला देवी मौजूद रहे। पराली न जलाने की कर रहे अपील

खंड कृषि अधिकारी डा. मनोहर चौधरी ने बताया कि क्षेत्र के किसानों को पराली न जलाने के लिए अपील जा रही है। इससे जागरूक किसानों की ओर से पर्यावरण संरक्षण में सहयोग मिल रहा है। लेकिन फिर भी यदि कोई व्यक्ति जानबूझकर पराली जलाते पकड़ा जाएगा तो उसके खिलाफ जुर्माना व एफआइआर दर्ज करवाई जाएगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप