संवाद सहयोगी, कालांवाली : पंजाबी साहित्य सभा कालांवाली द्वारा सालासर धर्मशाला में प्रवासी पंजाबी लेखक मिटू बराड़ आस्ट्रेलिया के साथ एक शाम आपनियां दे नाल कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर सभा के अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह पन्नीवालिया ने कार्यक्रम में भाग लेने वाले सभी का स्वागत किया। अपने संबोधन में मिटू बराड़ ने कहा कि आस्ट्रेलिया में सरकार द्वारा मुफ्त स्वास्थ्य और शिक्षा सुविधाओं की उपलब्धता से वहां के लोगों को एक आरामदायक जीवन जीने का मौका मिलता है। इसके अलावा वरिष्ठ नागरिकों के लिए बनाए गए वृद्धावस्था देखभाल केंद्रों में भी कई सुविधाएं प्रदान की जाती हैं ताकि वे अपने जीवन के अंतिम वर्ष बेहतर तरीके से बिता सकें। उन्होंने बताया कि आस्ट्रेलिया के स्कूलों में बच्चों को पढ़ाया कम जाता है लेकिन सिखाया ज्यादा जाता है जो बड़े होने पर उनके जीवन में बहुत उपयोगी होता है। उन्होंने कहा कि पश्चिमी देशों की तुलना में आस्ट्रेलिया में अश्लीलता बहुत कम है और लोगों का सामाजिक जीवन कुछ हद तक भारतीयों के समान है। उन्होंने कहा कि वह अपने यूट्यूब चैनल पेंडू आस्ट्रेलिया पर दुनिया भर से कृषि को दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने अब तक इस चैनल के माध्यम से आस्ट्रेलिया, कनाडा, अमेरिका, भारत और अन्य देशों के कृषि और किसानों के बारे में जानकारी प्रदान की है। उन्होंने लेखन के अपने अनुभव भी उपस्थितजनों से सांझा किए। इस मौके पर सभा के वरिष्ठ सदस्य गुरदास सिंह पालना, अजैब जलालआना, सुरिद्रपाल सिंह, मुलख सिंह पिपली, नायब सिंह गिल, बिट्टू मलिकपुरा, जगदीश सिघपुरा, रिशपाल सिंह, कुलविद्र सिंह दादू, हरगोविद सिंह, जीवन सिंह फौजी, सिकंदर सिंह सिद्धू, मनदीप मिटा, हरचरण सिंह गिल, जग्गा सिंह तारुआना, जगदेव सिंह कलालवाला, अजमेर सिंह सरां आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम के अंत में मिटू बराड़ को सभा के पदाधिकारियों द्वारा शाल व पुस्तकें भेंट कर सम्मानित किया गया।

Edited By: Jagran