जागरण संवाददाता, सिरसा : किसानों के आंदोलन को लेकर रोडवेज कर्मचारियों की ओर से चक्का जाम करने का फैसला वापस ले लिया गया। लेकिन पुलिस द्वारा किसानों को रोकने के लिए लगाए गए नाकों के कारण बस सेवा भी प्रभावित हुई है। सिरसा से हिसार, जींद, कैथल, करनाल, कुरूक्षेत्र, पानीपत, दिल्ली, गुरुग्राम, चंडीगढ़, बहादुरगढ़, रोहतक, सोनीपत जाने वाली सभी बसों को फतेहाबाद से ही वापस लौटना पड़ा। जिसके कारण यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

जबकि पंजाब की बसों की आवाजाही भी पूरी तरह से बंद रही। ऐसे में यात्री भी आटो और कच्चे रास्तों से गुजरते रहे। वहीं दूसरी तरफ जींद, बहादुरगढ़, हिसार, गुरुग्राम, कैथल और अन्य डिपो की बसें भी दोपहर तक डिपो में पहुंचती रही। जिसके पश्चात हिसार और अन्य डिपो के बस चालक ग्रामीण रूटों से बसों को निकाल यात्रियों को गंतव्य तक पहुंचाने में लगे रहे।

-------

डबवाली की दो बसों को कर्मचारियों ने सुबह रोका

कर्मचारियों की हड़ताल के चलते डबवाली से दिल्ली जाने वाली दो बसों को कर्मचारियों ने बस स्टैंड के बाहर रोक लिया। एक घंटे तक सुबह कर्मचारी यहां पर खड़े होकर प्रदर्शन करते रहे। जबकि इसके पश्चात अन्य समय पर चलने वाली बसों की आवाजाही शुरू करवा दी गई।

-------

50 से अधिक बसें लौटी वापस

सिरसा से हिसार, दिल्ली और अन्य डिपो में जाने वाली सिरसा डिपो की बसों सुबह सामान्य चली लेकिन दोपहर बाद पुलिस द्वारा फतेहाबाद के पास नाका लगाए जाने के बाद बसों की आवाजाही को भी बंद कर दिया। ऐसे में हिसार, जींद और अन्य डिपो की बसें भट्टू और अन्य लोकल रास्तों से होकर गुजरती रही।

----

बस स्टैंड पर तैनात रहा पुलिस बल

कर्मचारियों के प्रदर्शन के दौरान बस स्टैंड पर पुलिस बल भी तैनात रहा। लेकिन कर्मचारी ने तीन घंटे तक धरना देकर रोष व्यक्त किया। वहीं कर्मचारी नेता रामकुमार चुरनियां ने कहा कि कर्मचारी राष्ट्रव्यापी हड़ताल में शामिल है। लेकिन कार्य जारी है। बसों को रूटों पर उतारा जा रहा है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021