जागरण संवाददाता, सिरसा : सामाजिक कार्यकर्ता डा. रेखा रानी ने जारी बयान में कहा कि हरियाणा के राजकीय, राजकीय सहायता प्राप्त व निजी महाविद्यालय में स्नातक के प्रथम वर्ष के लिए चल रही दाखिला प्रक्रिया में राज्य सरकार द्वारा बनाए गए आरक्षण नियमों की अनदेखी की जा रही है। डा. रेखा रानी ने उप कुलपति, चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय सिरसा व उच्च शिक्षा विभाग पंचकूला को पत्र लिखकर 11 सितंबर की लिस्ट को पुन: आरक्षण नियमानुसार जारी करने का आह्वान किया है। हरियाणा सरकार ने महाविद्यालय व विश्वविद्यालयों में शिक्षा प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों के लिए आरक्षण नियम बनाए हुए हैं। जिनके तहत विषय वार सीटें भी निर्धारित की जाती हैं। उन्हीं निर्धारित सीटों पर आरक्षण नियम के अनुसार विद्यार्थियों की दाखिला प्रक्रिया चलती है , कितु वर्तमान में इस नियमावली का पालन सही ढंग से नहीं किया जा रहा । उन्होंने कहा कि जिन विद्यार्थियों ने स्नातक के प्रथम वर्ष में दाखिला लेने के लिए जिन जिन महाविद्यालयों में जिस विषय संयोजन के साथ फार्म भरे थे वह विषय संयोजन उन्हें दाखिला प्रक्रिया के दौरान नहीं मिल पा रहे है। नहीं ले पा रहे हैं। विषय संयोजन की ऊंची मेरिट लिस्ट ऑल इंडिया केटेगरी में सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों की है यही इसमें सबसे बड़ी खामी है। जबकि उच्च शिक्षा विभाग पंचकूला ने इन विषय संयोजनों हेतु आवंटित सीटों में किसी भी प्रकार के आरक्षण का प्रावधान नहीं किया।

Edited By: Jagran