जागरण संवाददाता, रोहतक : सोमवार दोपहर करीब 1.15 बजे पुराना हाउसिग बोर्ड के पास तीसरी बेटी पैदा होने से परेशान एक महिला अपनी दो बेटियों के साथ आत्महत्या करने के लिए मालगाड़ी के आगे कूद गई। महिला की पहचान लाखनमाजरा क्षेत्र के गांव खरक जाटान निवासी सविता पत्नी बंशीलाल के रूप में हुई। गनीमत रही कि महिला के कूदने के बाद दोनों बेटियां उसकी गोद से छिटककर ट्रेन की पहुंच से दूर जा गिरीं थी। मौके पर पहुंची जीआरपी की टीम ने महिला को बामुश्किल ट्रेन के नीचे से निकालकर पीजीआइ के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया। हादसे में महिला का एक पैर व एक हाथ कट गया। ट्रेन की गति धीमी होने के चलते लोको पायलट ने ट्रेन को रोक दिया। महिला करीब 30 मीटर तक ट्रेन के साथ घिसटती रही। जब जीआरपी मौके पर पहुंची उस समय महिला होश में थी, जबकि उसकी दोनों बच्चियां रो रहीं थीं। मौके पर पहुंचे परिजनों ने बताया कि करीब तीन माह पूर्व सविता के तीसरी बेटी पैदा हुई थी। जिसके बाद से ही वह परेशान थी। फिलहाल दोनों बच्चियों की हालत सामान्य बताई जा रही है। वर्जन ---

लोको पायलट ने महिला के बच्चों समेत ट्रेन के आगे कूदने की जानकारी दी थी। महिला बुरी तरह से ट्रेन में फंस चुकी थी। जीआरपी की टीम ने महिला को बाहर निकालकर ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया था। महिला का उपचार चल रहा है, जबकि दोनों बच्चियों की हालत सामान्य है। --- स्नेही राज, थाना प्रभारी, जीआरपी

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस