संवाद सहयोगी, महम : सैमाण गांव में पूर्व सरपंच के भाई को बेवजह हिरासत में लेने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। सोमवार को महम चौबीसी पंचायत के कार्यकारी प्रधान हरिओम सिवाच के नेतृत्व में काफी संख्या में लोग एसपी राहुल शर्मा से आकर मिले। एसपी को दी गई शिकायत में सैमाण गांव निवासी पूर्व सरपंच राजबीर ने बताया कि कई दिन पहले महम थाने से दो पुलिसकर्मी उसके भाई सुरेश के मकान पर पहुंचे। जिन्होंने उसके भाई सुरेश को बैंक का भगौड़ा बताकर पकड़ लिया और थाने लेकर आ गए। परिवार की महिलाओं के साथ अभी अभद्र बर्ताव किया। पुलिसकर्मियों ने उसे छोड़ने के एवज में 25 हजार रुपये की मांग की। बाद में पता चला कि पुलिसकर्मियों को किसी दूसरे व्यक्ति को पकड़ना था, जिसके बाद उसके भाई को छोड़ा गया। इस मामले के बाद उसके भाई सुरेश की हालत खराब हो गई और उसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। पुलिसकर्मी अब भी धमकी दे रहे हैं कि इस मामले में कोई शिकायत मत करना। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि आरोपित पुलिसकर्मियों पर मुकदमा दर्ज कर कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाए। इस मौके पर महम चौबीसी पंचायत कार्यकारी प्रधान हरिओम सिवाच, जगत सिंह, सुरेश मलिक, धज्जाराम, रामनिवास सरपंच, देवेंद्र और कृष्ण नेहरा आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran