मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सहयोगी, सांपला : हसनगढ़ गांव के पास नहर में नहाने के लिए उतरे दो मजदूर डूब गए। हादसे की सूचना पर पहुंची पुलिस और स्थानीय लोगों ने करीब आधा किलोमीटर दूर से एक मजदूर का शव बरामद कर लिया, जबकि दूसरे का देर शाम तक कोई पता नहीं चल सका था। बताया जा रहा है कि नहर में डूबने वाले दोनों मजदूर अपने दो अन्य साथियों के साथ बैठकर शराब पी रहे थे। इसके बाद ही वह नहर में नहाने उतरे थे। फिलहाल मजदूर की बरामदगी के लिए तलाशी अभियान चलाया जा रहा है।

मूलरूप से उत्तर प्रदेश के आंबेडकर नगर जिले का रहने वाला 24 वर्षीय अंकित पांडे हसनगढ़ स्थित हिदुस्तान लीवर वेयर हाउस में नौकरी करता था। रविवार को छुट्टी होने के कारण वह अपने साथी नरेला के रहने वाले सिराजुद्दीन, नरेला निवासी अफजल और हसनगढ़ निवासी रामप्रकाश के साथ नहर के किनारे बैठा हुआ था। बताया जा रहा है कि चारों ने वहां बैठकर शराब पी। इसके बाद अंकित और सिराजुद्दीन नहर में नहाने के लिए उतर गए। थोड़ी ही देर बाद दोनों पानी में डूबने लगे। यह देखकर अफजल ने भी पानी में छलांग लगा दी। अफजल ने दोनों को बाहर निकालने के लिए उनकी तलाश की, लेकिन तब तक दोनों पानी में डूब चुके थे। इसी बीच रामप्रकाश ने वहां से गुजर रहे लोगों को इसकी जानकारी दी। सूचना मिलने पर सांपला थाना पुलिस और बड़ी संख्या में ग्रामीण भी वहां पर पहुंचे गए। पुलिस ने ग्रामीणों के साथ मिलकर नहर में उनकी तलाश कराई। करीब आधा किलोमीटर दूर जाने के बाद अंकित शव बरामद हो गया। जबकि सिराजुद्दीन का कोई पता नहीं चल सका। पुलिस ने शव को बाहर निकालकर उसके परिजनों को सूचना दी और पोस्टमार्टम के लिए पीजीआइ में भिजवा दिया। नहीं बुलाए गोताखोर, खुद ही लगे रहे पुलिसकर्मी

मजदूरों के डूबने का पता चलते ही पुलिस मौके पर तो पहुंच गई, लेकिन गोताखोर नहीं बुलाए गए। इसके बाद पुलिसकर्मी ही रस्सी और जाल लेकर पानी में उतरे और ग्रामीणों के साथ उनकी तलाश की। ग्रामीणों का कहना है कि यदि पुलिस गोताखोर को लेकर आ जाती तो शायद वह बच सकता था। अकेला ही रहता था अंकित

उसके साथियों ने बताया कि अंकित का परिवार उत्तर प्रदेश में रहता है। जबकि अंकित यहां पर अपने साथियों के साथ रहता था। वह माह में एक-दो बार अपने घर जाता था। हाल ही में वह कई दिन पहले ही अपने घर से आया था। उधर, पुलिस सिराजुद्दीन के बारे में भी जानकारी जुटा रही है। क्योंकि सिराजुद्दीन का परिवार भी यहां पर नहीं रहता। दोस्त को न बचा पाने का अफसोस

जिस समय अंकित और सिराजुद्दीन डूब रहे थे उसी वक्त अफजल भी उन्हें बचाने के लिए पानी में कूद गया था। काफी प्रयास के बाद भी वह सफल नहीं हो सका। अफजल का कहना है कि अंकित को नहीं बचा पाने का उसे बहुत अफसोस है।

मजदूर नहाने के लिए नहर में उतरे थे। एक मजदूर का शव बरामद हो गया है, जबकि दूसरे की तलाश जारी है। मृतक मजदूर के परिजनों को सूचना दे दी गई है।

- कुलबीर सिंह, थाना प्रभारी सांपला

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप