जागरण संवाददाता, रोहतक: स्वास्थ्य विभाग के बहुउद्देशीय कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर समर्थन जुटाने के लिए मंगलवार को मानव श्रृंखला बनाएंगे। सिविल सर्जन कार्यालय से लेकर मेडिकल मोड़ तक मानव श्रृंखला बना कर वह अपना विरोध भी जताएंगे। इसके लिए कर्मचारी काली पट्टी बांधेंगे। वहीं, छुट्टी होने के कारण सोमवार को कर्मियों ने विभिन्न गांव का दौरा कर सरपंच प्रतिनिधियों को अपनी मांगों से अवगत कराया और समर्थन जुटाया। अब प्रतिनिधियों द्वारा प्राप्त समर्थन को वह स्वास्थ्य मंत्री को भेजेंगे।

जिला के करीब 127 उप स्वास्थ्य केंद्रों पर काम करने वाले 300 से भी अधिक स्वास्थ्य विभाग के बहुउद्देशीय कर्मचारी खुद को तकनीकी घोषित किए जाने और 4200 रुपये ग्रेड पे दिए जाने की मांग कर रहे हैं। इन मांगों के लिए ही उन्होंने हेल्थ यूनिवर्सिटी के परिसर में सिविल सर्जन कार्यालय के बाहर ही अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया है। अब तक वह वित्तमंत्री का पुतला फूंकने के साथ ही सहकारिता मंत्री की कोठी का घेराव भी कर चुके हैं। इसके अतिरिक्त जुलूस निकालने के साथ ही कर्मचारियों ने अपना मुंडन भी कराया है। लेकिन इसके बाद भी उनकी मांगों को सरकार की ओर से पूरा नहीं किया गया है। कर्मचारियों ने बताया कि उनकी मांगों को पूरा करने के बजाय सरकार ने हड़ताल को खत्म करने के लिए उन पर एस्मा यानी कि अत्यावश्यक सेवा अनुरक्षण अधिनियम लागू कर दिया। जिसके तहत कोई भी कर्मचारी हड़ताल नहीं कर सकता और उसे अपनी सेवाएं देनी ही पड़ेंगी। ऐसा न करने पर उन पर सस्पेंड भी किया जा सकता है। अब कर्मचारी इसके विरोध में भी उतर आए हैं। एस्मा को काला कानून बताते हुए कर्मचारियों ने हड़ताल को जारी रखने का फैसला लिया है। कर्मचारियों ने अपनी मांगों के समर्थन में गांव में सरपंच व उनके प्रतिनिधियों से भी समर्थन जुटाया है। इसके लिए सोमवार को उन्होंने कंसाला, माड़ौदी जाटान, भैणी सुरज, भैणी मातों, खरैंटी, गिझी, ताजा माजरा, गिन्धराण, भैणी चंद्रपाल, बहलबा खास, धामड़ और पाकस्मा का दौरा किया और सरपंच से समर्थन जुटाया। ---मानव श्रृंखला के तहत विरोध जताने के लिए ड्रेस कोड सिविल सर्जन कार्यालय से लेकर मेडिकल मोड़ तक श्रृंखला बनाकर लोगों से अपनी मांगों के लिए समर्थन जुटाने और विरोध करने के लिए कर्मचारियों ने ड्रेस कोड तैयार किया है। जिला सचिव मुकेश कुमार ने बताया कि महिला कर्मचारी काली चुन्नी पहनकर आएंगी और पुरुष कर्मचारी सिर पर काली पट्टी बांधेंगे। उन्होंने बताया कि जब तक नोटिफिकेशन नहीं जारी किया जाएगा, हड़ताल जारी रहेगी। --हमने जुलूस निकाला। पुतला फूंका। कोठी का घेराव किया। मुंडन तक करा लिया लेकिन सरकार ने अब तक हमारी मांगें नहीं मानी। इसलिए अब हम लोगों से समर्थन जुटा रहे हैं। रविवार और सोमवार को हमने सरपंच व उनके प्रतिनिधियों से समर्थन जुटाया। अब उसे स्वास्थ्य मंत्री को भेजेंगे। इसके अतिरिक्त, काले कपड़े बांध कर मानव श्रृंखला बनाकर विरोध जताएंगे।

- कुलताज मलिक, जिला प्रधान, एमपीएचडब्ल्यू एसोसिएशन, रोहतक।

Posted By: Jagran