जागरण संवाददाता, रोहतक : अखिल भारतीय जाट सूरमा स्मारक महाविद्यालय में यूथ रेडक्रास इकाई द्वारा अंतरराष्ट्रीय आपदा प्रबंधन दिवस मनाया गया। इस मौके पर यूथ रेडक्रास के को-आर्डिनेटर डा. विवेक दांगी ने विद्यार्थियों को आपदाएं आने पर उनसे कैसे निपटा जाए, के बारे में विस्तार से जानकारी दी। डा. विवेक दांगी ने विद्यार्थियों को विभिन्न कारणों से लगी आग पर काबू पाने के उपाय बताए। जैसे वायरिग में सावधानी बरतना, बिजली मीटर का ध्यान रखना, एसी में एहतियात, गैस सिलेंडर के इस्तेमाल में एहतियात, घर के वाहनों को आग से कैसे बचाएं इत्यादि पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि आग लगने पर धुएं से घिरे होने पर अपने नाक और मुंह को गीले कपड़े से ढक लें और लिफ्ट का प्रयोग कभी न करें। अपने घर और कार्यालय में स्माक डिडेक्टर अवश्य लगवाएं। अपने आस-पास लगे अग्निशमक की समय-समय पर सर्विसिग करवाएं और इसमें आगे बुझाने वाली गैस को समय-समय पर चेक करते रहें। इस अवसर पर आग पर काबू पाने के लिए प्रयोग में आने वाले उपकरणों को बच्चों को इस्तेमाल करना सीखाया।

वाइआरसी काउंसलर डा. लक्ष्मी दांगी ने बच्चों को भूकंप आने पर रखी जाने वाली सावधानियों के बारे में अवगत करवाया। उन्होंने बताया कि भूकंप आने पर कभी भी धैर्य न खोएं। सबसे पहले घर के सभी बिजली उपकरणों को बंद कर दें, घर के दरवाजे और खिड़कियां खोल दें और अगर आप बहुत ऊंचीं बिल्डिग में हों तो नीचे आने की बजाए किसी लकड़ी के फर्नीचर के नीचे छिपकर अपनी जान बचाएं। संभव हो तो खुले मैदान की ओर भागें। भूकंप के दौरान खुले मैदान से ज्यादा सुरक्षित जगह कोई नहीं है। इस अवसर पर वाईआरसी के सभी काउंसलर उपस्थित थे।

Edited By: Jagran