जागरण संवाददाता, रोहतक : स्वामी विवेकानंद के ओजस्वी, प्रेरणादायी विचार आज भी प्रासंगिक हैं। युवाओं को अपने जीवन को सही दिशा में ढालने के लिए स्वामी विवेकानंद के विचारों एवं जीवन दर्शन को आत्मसात करना चाहिए। यह बात महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (एमडीयू) के कुलपति प्रो. राजबीर ¨सह ने कही। वह शनिवार को विवेकानंद जयंती एवं राष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य में विवेकानंद पुस्तकालय में आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे।

प्रो. राजबीर ¨सह ने एमडीयू केन्द्रीय पुस्तकालय परिसर में स्थापित स्वामी विवेकानंद की आदमकद प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर महान विभूति को नमन किया। यूनिवर्सिटी लाइब्रेरियन डा. सतीश मलिक, चीफ वार्डन बॉयज प्रो. राधेश्याम, चीफ वार्डन ग‌र्ल्ज प्रो. राजेश धनखड़ तथा निदेशक जनसंपर्क सुनित मुखर्जी ने भी इस अवसर पर पुष्पांजलि दी। कुलपति प्रो. राजबीर ¨सह ने कार्यक्रम में उपस्थित विद्यार्थियों को कहा कि जीवन एवं करियर लक्ष्य तय कर, कड़ी मेहनत, निष्ठा एवं लगन के साथ अपने लक्ष्य की ओर आगे बढ़ें। स्वामी विवेकानंद के कालजयी वाक्य- उठो, जागो, तब तक न रूको, जब तक अपना लक्ष्य हासिल न कर सको- को बोलते हुए कुलपति प्रो. राजबीर ¨सह ने विद्यार्थियों को प्रेरित किया। उन्होंने स्वामी विवेकानंद के शिकागो में विश्व धर्म संसद के भाषण का भी उल्लेख किया। कुलपति ने विवेकानंद पुस्तकालय तथा लाइब्रेरी एंड इंफोर्मेशन विभाग की इस कार्यक्रम के लिए सराहना की।

तदुपरांत, कुलपति प्रो. राजबीर ¨सह ने पुस्तकालय में लगाई गई-स्वामी विवेकानंद की पुस्तकों की प्रदर्शनी का अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि भारत के महान सपूत स्वामी विवेकानंद के जीवन एवं उनके दर्शन से संबंधित और अधिक पुस्तकें पुस्तकालय में मंगवाई जाएंगी। कार्यक्रम का संयोजन लाइब्रेरियन डा. सतीश मलिक ने किया। कार्यक्रम संचालन निदेशक जनसंपर्क सुनित मुखर्जी ने किया। इस अवसर पर पुस्तकालय एवंसूचना विज्ञान विभाग के प्राध्यापकगण- डा. एनके स्वैन, डा. अनिल सिवाच, डा. संजीव काद्यान तथा डा. ¨पकी शर्मा, एसीसटेंट लाइब्रेरियन रूप किशोर, बल¨वदर, सूचना वैज्ञानिक सुंदर ¨सह, पीआरओ पंकज नैन समेत विभाग के शोधार्थी-विद्यार्थी उपस्थित रहे। पुस्तकालय का किया कुलपति ने दौरा

कुलपति प्रो. राजबीर ¨सह ने आज विवेकानंद पुस्तकालय तथा लाइब्रेरी एंड इंफोर्मेशन साइंस विभाग का दौरा किया। उन्होंने विवेकानंद पुस्तकालय में उपलब्ध सुविधाओं, ई-रिसोर्सेज तथा अन्य सपोर्ट सर्विसेज की जानकारी ली। लाइब्रेरियन डा. सतीश मलिक ने पुस्तकालय कार्यप्रणाली तथा उपलब्ध सुविधाओं बारे अवगत करवाया।

कुलपति ने लाइब्रेरी एंड इंफोर्मेशन साइंस विभाग में विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि अपने ज्ञान का दायरा बढ़ाने के लिए अधिक से अधिक पुस्तकें पढ़ें। उन्होंने कहा कि कॅरियर लक्ष्य तय करना सफलता प्राप्ति के लिए जरूरी है। शैक्षणिक ई-संसाधनों का उपयोग करने की सलाह भी कुलपति ने दी। कुलपति ने विभाग के शोधार्थियों, विद्यार्थियों तथा प्राध्यापकों से इंटैरेक्ट भी किया। विभाग के अध्यक्ष डा. सतीश मलिक, प्राध्यापक डा. एनके स्वैन, डा. अनिल सिवाच, डा. संजीव काद्यान तथा डा. ¨पकी शर्मा उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस