जागरण संवाददाता, रोहतक

जनस्वास्थ्य विभाग दावे कर रहा है कि शहर में पेयजल आपूíत के हालात ठीक हैं। लेकिन इस वक्त पानी की आपूíत को लेकर बेहद बुरा हाल है। पुराने शहर से लेकर पॉश इलाकों में भी गंदे पानी की आपूíत हो रही है। विभागीय अधिकारी दावा कर रहे हैं कि जिन स्थानों से भी गंदे पानी की आपूíत की शिकायतें मिल रही हैं, वहां टीमें लगातार काम कर रही हैं। फिलहाल शहरी क्षेत्र में हाल यह है कि तमाम कॉलोनियों में सीवरेज मिश्रित गंदा पानी आ रहा है। कई स्थानों पर ऐसा हाल है कि 24 घंटे बाद पानी में कीड़े देखने को मिल रहे हैं। इससे बीमारियों का अंदेशा बढ़ गया है। जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों पर गंभीर आरोप लगाए हैं। लोगों ने दावा किया है कि शिकायत केंद्र पर शिकायतों का समाधान भी नहीं हो पा रहा है। विभागीय सूत्रों का दावा है कि हर रोज जनस्वास्थ्य विभाग के पास 20 से 25 बड़ी शिकायतें आ रही हैं। वर्जन

गांधी कैंप में हमारी टीम लगी हुई है। वहां से शिकायत आई थी। दूसरे जिन स्थानों की बात हो रही है, उन स्थानों पर नालियों के आसपास पानी की लाइन हो सकती है। हमारे पास किसी ने टोल फ्री नंबर या फिर दूसरे माध्यमों से शिकायत नहीं की है। फिर भी हम मौके पर टीम भेजेंगे।

भानु प्रकाश, एक्सईएन, जनस्वास्थ्य विभाग

--

मैंने पंचकूला स्थित टोल फ्री नंबर-1800-180-5678 पर शिकायत की थी। दो माह पहले और 15 दिन पहले भी शिकायत की। लेकिन जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कोई समाधान नहीं किया। गंदे पानी की आपूíत से लोग बीमार होने लगे हैं। इसलिए मजबूरी में पैसे खर्च करके पानी मंगा रहे हैं।

मान ¨सह, पूर्व पार्षद, गोपालपुरा

-- दो साल से पीजीआइ से ला रहे पानी

गांधी कैंप निवासी प्रभात कुमार चावला और सुरेंद्र का दावा है कि संबंधित क्षेत्र में गंदे पानी की आपूíत हो रही है। यदि पानी पीते हैं तो लोग बीमार हो रहे हैं। इसलिए मजबूरी में पीजीआइ और उसके आसपास लगे वाटर कूलर से पानी भरकर लाते हैं। इनका दावा है कि रोजाना सैकड़ों लोग पीजीआइ से पानी लाते हैं। सुभाष नगर, मॉडल टाउन में गंदे पानी की आपूíत

कहने को तो झंग कॉलोनी, मॉडल टाउन, सुभाष नगर आदि पॉश इलाकों में शुमार हैं। लेकिन पिछले कुछ माह से लगातार गंदे पानी की आपूíत हो रही है। सुभाष नगर निवासी जितेंद्र चुघ ने दावा किया है कि पिछले कई दिनों से गंदे पानी की आपूíत हो रही है। जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कोई समाधान नहीं निकाला। इन शिकायतों से समझें पानी की किल्लत :::

केस एक : टोल फ्री पर दो माह में दो बार शिकायत, फिर भी गोपालपुरा में गंदे पानी की आपूíत

नंद कॉलोनी स्थित गोपालपुरा निवासी पूर्व पार्षद मान ¨सह ने दावा किया है कि उनकी कॉलोनी में पिछले करीब दो माह से गंदे पानी की आपूíत हो रही है। पहले शिकायत की तो समाधान हुआ, लेकिन फिर से गंदे पानी की 150 घरों में आपूíत हो रही है। पीने लायक पानी नहीं होता। इसलिए लोग भी बीमार होने लगे हैं।

--

केस दो : रेलवे रोड पर चंदा करके ठीक कराई लाइन

रेलवे रोड के रहने वाले दीपक ने दावा किया है कि गंदे पानी की आपूíत हो रही थी। लाइन ठीक नहीं थी। इसलिए जिस गली में हम रहते हैं, वहां के स्थानीय लोगों ने चंदा किया और डैमेज लाइन को ठीक कराया। इसी के बाद गंदे पानी की आपूíत से संबंधित गली वालों को राहत मिल सकी है।

--

केस तीन : राज मुहल्ले में गंदे पानी की आपूíत

वार्ड-17 स्थित राज मुहल्ला निवासी राजेंद्र कहते हैं कि दुर्गंध वाला पानी आ रहा है। जो भी गंदा पानी होता है, वह ऐसा है कि उसे पी नहीं सकते हैं। इसलिए मजबूरी में पानी को उबालकर पीते हैं। गंदे पानी की आपूíत से राहत नहीं मिली। बीमारियों के डर से लोग हैंडपंप का पानी पी रहे हैं।

--

केस चार : श्रीराम कॉलोनी में आठ माह से पानी की आपूíत नहीं

वार्ड-20 स्थित श्रीराम कॉलोनी में पिछले सात-आठ माह से पनी की आपूíत न होने से लोग परेशान हैं। स्थानीय निवासी रिसाल ¨सह का दावा है कि आधी कॉलोनी में पानी की आपूíत पूरी तरह से ठप है। जिन घरों में पानी आ भी रहा है, उनके यहां बेहद दुर्गंध वाला पानी आता है।

--

केस पांच : कृष्णा कॉलोनी में 24 घंटे बाद पानी में पड़ जाते हैं कीड़े

गोहाना रोड स्थित कृष्णा कॉलोनी निवासी दिनेशचंद्र ने दावा किया है कि उनकी कॉलोनी में एक माह से पानी की आपूíत को लेकर हालात खराब हैं। फिलहाल गंदे पानी की आपूíत हो रही है। पानी भी ऐसा आता है कि 24 घंटे बाद उपयोग करें तो बड़े-बड़े कीड़े पानी में तैरते हुए दिखते हैं।

--

केस छह : गांधी कैंप में हैंडपंप से पानी लाने को विवश हुए स्थानीय

गांधी कैंप स्थित नया बाजार निवासी मुन्नू उर्फ मुक्ता ने दावा किया है कि उनकी कॉलोनी में पिछले दस दिनों से पानी की आपूíत को लेकर बेहद बुरे हालात हैं। सीवरेज मिश्रित गंदे पानी की आपूíत हो रही है। मजबूरी में कॉलोनी के निकट ही लगे हैंडपंप से पानी भरकर स्थानीय लोग ला रहे हैं।

Posted By: Jagran