जागरण संवाददाता, रोहतक : सीसरखास गांव में गोली मारकर युवक की हत्या के मामले में महम थाना पुलिस ने तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों ने वारदात को अंजाम देना स्वीकार किया। आरोपितों को कोर्ट में पेश कर दो दिन के रिमांड पर लिया गया है। बाकी आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है।

महम थाना प्रभारी कमलदीप ने बताया कि सीसरखाव गांव निवासी सचिन उर्फ भोलू ने मामला दर्ज कराया था। तीन सितंबर की रात में सीसरखास निवासी सचिन उर्फ भोलू और मोहन बस स्टैंड की तरफ जा रहे थे। रास्ते में गांव के ही बबलू का फोन मोहन के पास आया। उसने मोहन को बस स्टैंड की तरफ ही बुलाया। सचिन और मोहन वहां पर चले गए। जहां पहले से ही बबलू और सुनील मौजूद थे। इसके बाद रोहित, अमन और मोनू भी वहां पर आ गए। सभी आरोपित रात करीब एक बजे तक बस स्टैंड पर बैठे रहे। फिर मोहन की कार में सचिन, अमन, मोहन, रोहित और सुनील सवार हो गए। कार के पीछे बबलू बाइक पर सवार हो गया। सुनील को उसके घर पर छोड़ा गया। इस दौरान सुनील और सचिन का आपस में झगड़ा हो गया था। झगड़े की आवाज सुनकर बबलू के काका का लड़का नवीन और सुनील उर्फ काला भी वहां पर आ गए। जिसके बाद नवीन, सुनील उर्फ काला, बबलू और सुनील ने सचिन के साथ मारपीट शुरू कर दी। तभी नवीन ने फायर कर दिया। गोली मोहन को जाकर लगी। वही छर्रे लगने से सचिन भी घायल हो गया। घायल को कार में डालकर ले गए थे भिवानी, वहां मिला मृत

इसके बाद बबलू, नवीन, सुनील उर्फ काला और दूसरा सुनील अपनी कार में मोहन को डालकर फरार हो गए थे। चार अगस्त को भिवानी-चरखीदादरी रेलवे लाइन पर मानहेरू के पास मोहन का शव पड़ा मिला था। जिसके बाद हत्या का मामला दर्ज किया गया। आठ सितंबर को पुलिस ने आरोपित नवीन, सुनील उर्फ काला और सुनील को गिरफ्तार कर लिया। आरोपितों ने बताया कि कुछ दिन पहले सचिन के साथ झगड़ा हुआ था। इसी बात की रंजिश में सचिन पर फायर किया गया। लेकिन गोली मोहन को लग गई थी। वह मोहन को अपनी कार में लेकर सिविल अस्पताल भिवानी में गए, जहां पर डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस