जागरण संवाददाता, रोहतक :

रोडवेज कर्मचारी यूनियन की नए बस स्टैंड परिसर में बुधवार को बैठक हुई। अध्यक्षता डिपो प्रधान जोगेंद्र बल्हारा ने की। बैठक में सरकार पर तानाशाही रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुए आंदोलन की चेतावनी दी है। साथ ही विधानसभा घेराव के दौरान कर्मचारियों पर पुलिस द्वारा लाठी चार्ज करने की कड़े शब्दों में ¨नदा की। 13 सितंबर को प्रदेश स्तरीय बैठक यूनियन मुख्यालय में हुई, जिसमें आंदोलन की रणनीति बनाई जाएगी। जोगेंद्र बल्हारा ने कहा कि सरकार अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए रोडवेज विभाग का निजीकरण करने पर तुली हुई है। कर्मचारी अपनी जायज मांगों के लिए आंदोलन करते हैं तो सरकार उन पर दमनकारी नीतियां अपना रही है। जिससे कर्मचारियों में सरकार के प्रति भारी रोष है। उन्होंने कहा सरकार एस्मा लगा कर कर्मचारियों की एकता को तोड़ना चाहती है, लेकिन वह अपने मकसद में कभी कामयाब नहीं होगी। बल्हारा ने कहा कि कई बार सरकार के साथ वार्ता हो चुकी है और कई मांगों बारे सहमति बन चुकी है, लेकिन अभी तक सरकार ने स्वीकृत समझौते को लागू नहीं किया। उन्होंने सरकार से तुंरत स्वीकृत समझौते के तहत नोटिफिकेशन जारी करने की मांग की। उन्होंने कहा कि 13 सितंबर को यूनियन मुख्यालय में प्रदेश स्तरीय बैठक होगी, जिसमें सरकार द्वारा रोडवेज और बहुउदेश्यीय स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ दर्ज मुकदमे वापिस लेने बारे विचार विमर्श कर आगामी आंदोलन की रणनीति तय की जाएगी। बैठक में चरण ¨सह, दीपक बल्हारा, युद्धवीर दांगी, रामधारी, उमेद घणघस, राममेहर प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

Posted By: Jagran