संवाद सहयोगी, महम : महम में एक स्कूल के खेल ग्राउंड के उद्घाटन कार्यक्रम में पहुंचे भाजपा नेता का शनिवार को किसानों ने न केवल विरोध कर दिया बल्कि काले झंडे दिखाए और रास्ता भी रोका। इस मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने फरमाणा गांव के निवर्तमान सरपंच आशीष सहित लगभग 200 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। पुलिस मामले में आगामी कार्रवाई कर रही है। दरअसल, राज्यसभा सदस्य व भाजपा नेता रामचंद्र जांगड़ा और पहलवान योगेश्वर दत्त को शनिवार को महम में सरस्वती स्कूल में इंडोर कबड्डी ग्राउंड का उद्घाटन करने पहुंचना था। जिसमें वे दोनों मुख्य अतिथि थे। कार्यक्रम के लिए राज्यसभा सदस्य जांगडा स्कूल में सुबह करीब साढ़े दस बजे पहुंचे गए। किसानों को इसका पता चला तो वे स्कूल के बाहर एकत्रित हो गए और भाजपा नेता का विरोध करने लगे। यहां बड़ी संख्या में किसानों ने पहुंच कर नारेबाजी शुरू कर दी। हालांकि मौके पर पुलिस बल भी तैनात रहा और उन्होंने किसानों से शांति बनाए रखने का आह्वान भी किया, लेकिन किसान नहीं माने। उधर, योगेश्वर दत्त उस समय तक कार्यक्रम में नहीं पहुंचे थे। हालांकि दावा किया जा रहा है कि वे महम में पहुंच चुके थे।

उद्घाटन कार्यक्रम के बाद राज्यसभा सदस्य रामचंद्र जब अपनी गाड़ी में सवार होकर जाने लगे तो गेट के बाहर पहले से ही बड़ी संख्या में जमा किसानों ने हूटिग और नारेबाजी शुरू कर दी। उन्होंने राज्य सभा सदस्य को काले झंडे दिखाए और रास्ता रोका। इसी दौरान एक युवक रामचंद्र की गाड़ी पर भी चढ़ गया, जिसे सुरक्षा कर्मियों ने तुरंत नीचे उतार दिया। काफी हंगामे के बीच पुलिस ने राज्यसभा सदस्य की गाड़ी को वहां से सुरक्षित निकाला। स्कूल निदेशक प्रदीप भारद्वाज ने किसानों से शांति बनाए रखने की अपील भी की। लेकिन किसानों ने उनकी अपील को भी अनसुना कर दिया। किसान करीब दो घंटे तक स्कूल के गेट के बाहर धरना दिए रहे। किसानों ने कहा कि भाजपा और जजपा नेताओं को किसी भी कार्यक्रम में शामिल नहीं होने दिया जाएगा। पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप