जागरण संवाददाता, रोहतक : अपराध जांच शाखा-वन ने झज्जर बाईपास पर अवैध शराब व बीयर से भरा कैंटर बरामद किया है। ड्राइवर व सहयोगी को भी गिरफ्तार कर लिया, जो रोहतक से गुरुग्राम में

कैंटर ले जा रहे थे। बरामद की गई शराब व बीयर की कीमत करीब दस लाख रुपये बताई जा रही है। पुलिस ने इस मामले में आरोपितों से गहनता से पूछताछ शुरू कर दी है। अपराध जांच शाखा-वन प्रभारी निरीक्षक प्रशांत कुमार को सूचना मिली थी कि बुधवार रात को एक कैंटर में अवैध शराब व बीयर रोहतक से गुरुग्राम ले जा रहे हैं। सूचना के आधार पर झज्जर बाईपास पर चौक पर नाकाबंदी कर जांच शुरू की। इसी दौरान वहां कैंटर पहुंचा, जिसे रोककर जांच की तो उसमें अंग्रेजी शराब और बीयर की पेटियां बरामद हुई। लाइसेंस व परमिट मांगा तो ड्राइवर के पास कोई जवाब नहीं था। ड्राइवर की पहचान मूल रूप से महम के गांव सैमाण हाल नेहरू कालोनी निवासी सत्यनारायण पुत्र लालचंद के रूप में हुई। कैंटर में दूसरे युवक की पहचान उत्तरप्रदेश के सुल्तानपुर के गांव रुदापुर निवासी रामकरण पुत्र शिव प्रसाद के रूप में हुई। दोनों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। कैंटर में 90 पेटी अंग्रेजी शराब व 450 पेटी बीयर बरामद हुई। मार्केट में शराब व बीयर की कीमत करीब दस लाख रुपये आंकी गई है। आरोपितों के खिलाफ आबकारी अधिनियम के तहत केस दर्ज कर लिया है। अंबाला शराब फैक्टरी से गई थी शराब व बीयर

कैंटर ड्राइवर सत्यनारायण ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह करीब नौ साल से एल-वन ठेकेदार प्रवीण बंसल के यहां नौकरी कर रहा है। 18 जून को अंबाला स्थित शराब फैक्टरी से कैंटर में अलग-अलग मार्का की 550 पेटी शराब भरकर रोहतक पहुंचा था। नया बस अड्डा रोड पर फाटक के समीप ठेकेदार प्रवीण के एल-वन गोदाम से अंग्रेजी की 460 पेटी उतारी गई और 90 पेटी कैंटर में छोड़ दी। 450 पेटी बीयर की भरी और गुरुग्राम में पहुंचाने की बात कही थी। ठेकेदार से भी पुलिस करेगी पूछताछ

अवैध शराब की खेप पकड़ने के मामले में ड्राइवर सत्यनारायण ने एल-वन ठेकेदार प्रवीण बंसल का नाम लिया है। अब पुलिस इस मामले में ठेकेदार प्रवीण बंसल से भी पूछताछ करेगी। पुलिस को यह अंदेशा है कि अवैध शराब सप्लाई करने का यह खेल नया नहीं है। इससे पहले भी अवैध शराब का कारोबार यहां से होता रहा है। पुलिस अब पूरी तह तक जाने का प्रयास कर रही है। पुलिस अधीक्षक जश्नदीप सिंह रंधावा के निर्देश पर यह कार्रवाई की गई है। रोहतक पुलिस की यह बड़ी सफलता है। एक बड़े नेटवर्क को तोड़ने का काम पुलिस ने किया है। आरोपितों से पूछताछ की जा रही है। पूछताछ के बाद अवैध शराब के अन्य मामले भी सामने आने की उम्मीद है।

निरीक्षक प्रशांत कुमार, प्रभारी, सीआइए-वन

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप