जागरण संवाददाता, रोहतक : स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने में फार्मासिस्ट का विशेष योगदान है। फार्मासिस्ट की हर क्षेत्र में अहम भूमिका है। जरूरत है कि भावी फार्मासिस्ट लोगों के स्वास्थ्य और खुशहाली के लिए ईमानदारी से कार्य करें। यह कहना है महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (एमडीयू) के कुलपति प्रो. राजबीर सिंह का। वह औषध विज्ञान विभाग में फार्मेसी डे पर आयोजित कार्यक्रम पर विचार रख रहे थे।

कुलपति ने कहा कि फार्मासिस्ट के बिना चिकित्सालय का संचालन संभव नहीं है। ऐसे में फार्मासिस्ट का दायित्त्व बनता है कि वे पूरी निष्ठा एवं ईमानदारी से अपने कर्तव्य का निर्वहन करे। फार्मेसी विभाग में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस बनने की काबिलियत है। विभाग की अध्यक्षा प्रो. संजू नंदा ने विभाग की विकास यात्रा एवं उपलब्धियों का ब्यौरा दिया। प्रो. मुनीष गर्ग ने फार्मासिस्ट ओथ दिलाई। इस मौके पर पोस्टर, स्लोगन राइटिग, कोलाज मेकिग, रंगोली बनाओ व प्रस्ताव लेखन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इस मौके पर डा. हरीश दूरेजा, डा. दीपक कौशिक, डा. विकास बुधवार, डा. अंजू धीमान, डा. राकेश कुमार मरवाह, डा. प्रभाकर के वर्मा, डा. अनुराग, डा. विनित, डा. वंदना, अंशु, पूनम, अभिलाषा, अनुराधा, नीता, डा. सलोनी कक्कड़, डा. गोविद सिंह, पुष्पेंद्र गर्ग, पूजा पूनिया व डा. जगबीर जांगड़ा मौजूद रहे। यह रहे विजेता : स्लोगन राइटिग : स्थान नाम प्रथम तारीक हुसैन

द्वितीय पूर्वा

तृतीय अंकित त्यागी पोस्टर मेकिग स्थान नाम प्रथम दीक्षा नागपाल

द्वितीय अंशु सैनी

तृतीय मीनू

तृतीय दीपिका रंगोली :

स्थान नाम प्रथम निकिता, साहिल

द्वितीय अलका व अजय

द्वितीय लतीशा व श्वेता

तृतीय सोनिया व कीर्ति

प्रस्ताव लेखन : स्थान नाम प्रथम छवि

द्वितीय अनुराग

तृतीय अमन कोलाज मेकिग स्थान नाम प्रथम नीतू व नेहा

द्वितीय अनु

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप