जागरण संवाददाता, रोहतक : राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ रोहतक ने जिला प्रधान रामराज कादयान के नेतृत्व में डाइट को बंद करने के विरोध में मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम राकेश को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने बताया कि राज्य के जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों को बंद करने का फैसला बहुत ही गलत व तर्कहीन है। राज्य से हर वर्ष हजारों गरीब छात्र इन संस्थानों के माध्यम से अपने भविष्य का निर्माण करने का सपना लेते हैं। शिक्षा के व्यवसायीकरण की दिशा में सरकार का एक ओर कदम है जो धीरे-धीरे सरकारी विद्यालयों की तरफ भी जाएगा। इस प्रकार गरीब विद्यार्थियों को शिक्षा से वंचित रखना हरियाणा सरकार की संवेदनहीनता को दर्शाता है। प्राइवेट संस्थानों में भारी भरकम फीस लेकर ये कोर्स कराए जाते हैं। राज्य प्रवक्ता प्रदीप कुमार ने बताया कि विरोध प्रदर्शन के प्रथम चरण में राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ हरियाणा द्वारा हर जिला मुख्यालय पर उपायुक्त के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया जाना है। यदि सरकार इस गरीब व शिक्षा विरोधी फैसले को समय रहते वापिस नहीं लेती है, तो संघ अगले चरण में विशाल प्रदर्शन करेगा। ज्ञापन देने के बाद संघ की रोहतक इकाई ने जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी, रोहतक से भी शिक्षकों की समस्याओं को लेकर मुलाकात की। इस दौरान पूजा, सविता, लीना, मंजू, इंदु, रश्मि, सुमन, सुमित्रा, सोफिया, राजेश, सीमा, कर्मबीर, संजय, सुनील, राजेश, संदीप, सुरेन्द्र, राजेश, रामचन्द्र, सतीश, गौरी शंकर, श्याम सुंदर,पवन, कृष्ण लाल शिक्षक मौजूद रहे।

Posted By: Jagran