जागरण संवाददाता, रोहतक

नगर निगम की मेयर रेणू डाबला खुद को सबसे कम उम्र में मेयर बनने का दावा कर रही हैं। उनका कहना है कि करीब दो साल पहले ही रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज कराने के लिए आवेदन किया था। मगर संबंधित संस्था की ओर से अभी तक जवाब नहीं मिला है। डाबला का दावा है कि वह सिर्फ साढ़े चौबीस साल की उम्र में मेयर बन गई थीं। खुद के नाम यह रिकार्ड दर्ज कराने के लिए संस्था को भी पत्र लिखेंगी और अपनी दावेदारी पेश करने के लिए फिर से आवेदन भेजेंगी।

बता दें कि 2013 में निकाय चुनाव हुए थे, रोहतक नगर निगम पहली दफा बना था। मेयर का दावा है कि जब वे मेयर बनीं थीं तब उनकी उम्र सिर्फ साढ़े चौबीस साल थी। इसलिए तमाम विशेषज्ञों ने सलाह दी कि लिम्का बुक के लिए दावेदारी पेश की जाए। इसलिए ऑनलाइन आवेदन बनाकर भेज दिया। ऑनलाइन आवेदन के दौरान मेयर बनने के प्रमाण-पत्र, जिस दिन मेयर बनीं थी, उस दिन तक उम्र के साथ ही बर्थ व पढ़ाई से संबंधित दस्तावेजों का भी ब्योरा दिया था। मगर अभी तक संस्था की ओर से कोई जवाब नहीं आया है।

हरियाणा में जो भी महिला अभी तक मेयर बनीं हैं, उनमें सबसे कम उम्र मेरी ही है। देशभर में मेरी दावेदारी मजबूत थी। आवेदन के बाद हमने संस्था के अधिकारियों से संपर्क किया था। उन्होंने यही कहा था कि आपके पास लिखित में सूचना भेजी जाएगी, लेकिन हमारे पास अभी तक कोई सूचना नहीं आई। इसलिए फिर से अपनी दावेदारी पेश की जाएगी। साथ ही अलग से पत्र भी लिखा जाएगा कि दो साल पहले आवेदन पर संज्ञान न लेने की वजह क्या थी।

रेणू डाबला, मेयर, नगर निगम

इसलिए अहम है लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड

लिम्का बुक में किसी भी क्षेत्र में कीर्तिमान बनाने वाले भारतीयों और भारत संबंधित अद्भुद चीजों को रिका‌र्ड्स दर्ज करने वाली भारतीय मूल की रिकॉर्ड पुस्तक है। कोई नया रिकार्ड बनता है तो उसका ब्योरा इस पुस्तक में दर्ज किया जाता है। कीर्तिमान बनाने वालों के लिए यह रिकार्ड देशभर में नई पहचान दिलाता है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप