जागरण संवाददाता, रोहतक : रैनकपुरा मुहल्ले में दुष्कर्म के आरोपित को पकड़ने आई करनाल की पुलिस पर महिला-पुरुषों ने हमला कर दिया। हमलावरों ने पुलिस के साथ मारपीट की और आरोपित को पुलिस के चंगुल से छुड़ाकर वहां से भगा दिया। सूचना पर पहुंची अतिरिक्त पुलिस बल ने सात आरोपित महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया है और बाकी की तलाश की जा रही है।

करनाल के सदर थाने में तैनात एएसआइ मीना, हेड कांस्टेबल सुभाष और कांस्टेबल रोहताश सिटी थाने में पहुंचे, जहां से गौकर्ण पुलिस चौकी पर तैनात एएसआइ सुनील कुमार, ईएचसी रविद्र और सिपाही श्रीभगवान को साथ लेकर रैनकपुरा में आरोपित सुनील के घर पर दबिश दी। आरोपित सुनील के खिलाफ करनाल सदर थाने में दुष्कर्म का मामला दर्ज है। पुलिस को देखकर आरोपित ने वहां से भागने का प्रयास किया, लेकिन पुलिसकर्मियों ने पीछा कर आरोपित को पकड़ लिया। जैसे ही पुलिस की टीम उसे गाड़ी में लेकर वहां से चलने लगी, तभी आरोपित की मां चंद्रपति, बहन पूजा, पिकी, सोनिया, बुआ बिमला व सरोज, मुनि और सावित्री समेत कई अन्य युवकों ने पुलिस को घेर लिया, जिसके बाद पुलिस टीम को धमकी दी कि सुनील की गिरफ्तारी नहीं कर सकते। विरोध करने पर आरोपितों ने पुलिस टीम पर हमला बोल दिया। पुलिसकर्मियों ने बामुश्किल वहां से निकलकर अपनी जान बचाई। इसी बीच हमलावरों ने मौका पाकर आरोपित को वहां से भगा दिया। हमले में पुलिसकर्मियों को भी चोट आ गई। सूचना मिलने पर थाने से फोर्स को भेजा गया, जिसके बाद हमला करने वाली सात आरोपित महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया गया। साथ ही सिटी थाना पुलिस ने सभी आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। हमलावरों ने महिलाओं को किया आगे

आरोपितों ने पूरी प्लानिग के तहत पुलिस टीम पर हमला किया। इसके लिए उन्होंने परिवार की महिलाओं को पुलिस के सामने खड़ा कर दिया। जबकि पुरुष पीछे रहे। सबसे पहले महिलाओं ने ही पुलिस टीम पर हमला बोला। यहां तक कि पुलिस पर पथराव भी किया गया और उनकी वर्दी फाड़ दी गई। इस बीच मुहल्ले के लोग भी वहां पर इकट्ठा हो गए, लेकिन आरोपित भागने में कामयाब हो गया। पुलिस पर हमला होते ही मची भगदड़

जिस समय आरोपितों ने पुलिस टीम पर हमला किया तो वहां पर भगदड़ मच गई। आसपास के मकानों में रहने वाले लोग भी अपने-अपने घरों में जा घुसे। पड़ोसियों को भी डर था कि कहीं वह भी हमले की चपेट में न आ जाए। पहले भी हो चुके हैं पुलिस पर हमले

पुलिस पर हमले का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी जनवरी माह में लघु सचिवालय में आरोपित को लेकर आयी पुलिस टीम पर सुनारिया गांव की महिलाओं ने हमला कर दिया था। हमलावरों ने आरोपितों को भी पुलिस टीम से छुड़ाने का प्रयास किया था। लेकिन कामयाब नहीं हो सके थे। इसके अलावा भी पुलिस टीम पर कई बार हमले हो चुके हैं। पुलिस टीम पर हमला कर आरोपित को छुड़ाया गया है। इस मामले में सात आरोपित महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया गया है। जबकि बाकी आरोपितों की तलाश की जा रही है।

- सुरेश चंद, थाना प्रभारी सिटी

Posted By: Jagran