जेएनएन, रोहतक। अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक ने कहा कि आंदोलन को लेकर गांवों को अलर्ट कर दिया गया है। यदि किसी आंदोलनकारी को बंधक बनाया गया या फिर कोई अभद्रता की गई तो सभी गांवों के लोग अपने पास की सड़कों पर उतरकर धरने पर बैठ जाएंगे।

राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक ने जसिया में कार्यकारिणी की बैठक की बाद पत्रकारों से बातचीत में आगामी आंदोलन की रणनीति की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सरकार अपने लोगों को बचाने के लिए हाई कोर्ट में झूठे तथ्य पेश कर रही है। वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु और कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ समेत कई अन्य नेताओं ने आंदोलन कराया है। सरकार उन्हें बचा रही है।

उन्होंने बताया कि आंदोलन के लिए नौ जिलों में प्रचार अभियान शुरू किया जाएगा। सभी को अलर्ट कर दिया गया है कि जिस जिले में मुख्यमंत्री या वित्तमंत्री के कार्यक्रम की जानकारी मिले तो वहां के लोग सड़कों पर उतरकर धरने के लिए तैयार रहे। दूसरे चरण के लिए बाकी जिले भी आंदोलन के लिए हर समय तैयार रहे। अगर सरकार किसी भी आंदोलनकारी को बंधक बनाती है या अभद्रता करती है तो सभी गांवों के लोग अपने-अपने आसपास की सड़क पर धरने पर बैठ जाएंगे।

उन्होंने कहा कि राजस्थान और मध्यप्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में भी भाजपा के खिलाफ प्रचार किया जाएगा। इसके साथ ही 13 सितंबर को सभी जिलों में आंदोलन में मारे गए सुनील श्योराण का शहादत दिवस मनाया जाएगा।

चुनाव के बाद फिर भाजपा में होंगे सांसद सैनी

मलिक ने कहा कि सांसद राजकुमार सैनी और भाजपा ने सोची-समझी रणनीति के तहत अलग पार्टी बनाई है। सांसद सैनी की पार्टी को भाजपा फंडिंग कर रही है। चुनाव के बाद सांसद सैनी फिर भाजपा में शामिल होंगे। सांसद सैनी भाजपा की बी टीम की तरह काम कर रहे हैं। ऐसा इसलिए किया गया है कि भाजपा से नाराज वोट बैंक चुनाव के समय कांग्रेस, इनेलो या फिर किसी अन्य दल में न जाए। भाजपा की इस रणनीति को जाट समाज कामयाब नहीं होने देगा।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt