मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

रोहतक, [ओपी वशिष्ठ]। एक समय था कि डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के सामने लाखों लोग नतमस्तक होते थे, समर्थक उसकी एक झलक पर कदमों में बिछ जाते थे, लेकिन समय ने ऐसा करवट लिया कि कि अपने गुनाहाें की सजा काट रहा राम रहीम आज दीनहीन हालत में है। यहां सुनारिया जेल में वह चौकीदार से लेकर जेलर तक को सलाम करता है।

इसे जेल-प्रशासन की सख्ती का असर कहा जाए या अच्छा आचरण दिखाकर पैरोल पर जाने की रणनीति, लेकिन गुरमीत का यह अंदाज जेल में सब पर असर कर रहा है। बताया जाता है कि डेढ़ साल से भी अधिक समय बीत जाने के बावजूद गुरमीत राम रहीम के बारे में एक भी शिकायत जेल प्रशासन को नहीं मिली है। 

जेल में गुरमीत ने अपने आचरण से हर किसी को बनाया मुरीद

साध्वी दुष्कर्म और पत्रकार हत्याकांड में सजायाफ्ता गुरमीत को जेल में अलग से सेल रखा गया है और इस कारण उसका अन्‍य कैदियों व बंदियों से मिलना-जुलना नहीं होता। जब कैदी व बंदी बैरकों में होते हैं, तब गुरमीत को सेल के बाहर निकाला जाता है, लेकिन सेल में ड्यूटी पर तैनात नंबरदार, सफाई कर्मचारी व सुरक्षागार्ड से आते-जाते वह दुआ सलाम करता है। इस दौरान गुरमीत खुद सभी कर्मियों को सलाम करता है।

जेल की चहारदीवारी का असर या पैरोल लेने के लिए नया पैंतरा

जेल सूत्रों के अनुसार, गुरमीत के सामने जो भी आता है, वह खुद उनको दुआ-सलाम करता है। जेल में परिजनों या वकील से मिलने जब उसे मुलाकात कक्ष में लाया जाता है तो वहां ड्यूटी पर मौजूद हर सुरक्षाकर्मी को वह सलाम करता है। राम रहीम के इस आचरण का हर कोई कायल हो गया है।

यह भी पढ़ें: अपनी ही चाल में बुरे फंसे हरियाणा कांग्रेस अध्‍यक्ष अशोक तंवर, कमेटी बनाना पड़ सकता है भारी

20 किलो से ज्यादा वजन घटा

गुरमीत राम रहीम को जब सीबीआइ की अदालत ने साध्वी दुष्कर्म मामले में सजा सुनाई तब, उसका वजन करीब 110 किलोग्राम था। अब उसका वजन 20 किलो घटकर 90 किलोग्राम पर पहुंच चुका है। बताया जाता है कि वह जेल में आमतौर पर सफेद कुर्ता-पायजामा पहनता है। उसका स्वास्थ्य भी पहले से बेहतर है। गुरमीत की दाढ़ी भी आधी से ज्यादा सफेद हो गई है।

टमाटर, ककड़ी की उगा रखी है फसल

राम रहीम को जेल में बागवानी का काम मिला हुआ है। वर्तमान में उसने जेल में ककड़ी, घिया और टमाटर की सब्जी उगा रखी है। इससे पहले वह आलू भी उगा चुका है। पिछले दिनों गुरमीत राम रहीम ने डेढ़ क्विंटल आलू की पैदावार की थी। अब उसने मौसमी सब्जी उगा रखी है। गुरमीत राम रहीम को जब भी मौका मिलता है फसल की सिंचाई, निराई और उसे तोड़ने में लग जाता है।

पैरोल अर्जी क्यों ली वापस, नहीं मिली जानकारी

गुरमीत राम रहीम ने खेती करने के लिए 42 दिन की पैरोल को लेकर जेल प्रशासन को 18 जून को अर्जी लगाई थी। जेल प्रशासन ने उसके आचरण को देखते हुए संस्तुति करके मंडलायुक्त को अर्जी भेज दी थी। राम रहीम की अर्जी प्रदेश में राजनीतिक मुद्दा बनना शुरू हो गया था। इसी बीच गुरमीत ने बिना कोई कारण दिए पैरोल की अर्जी को वापस ले लिया। हालांकि, पैरोल की अर्जी वापस क्यों ली, इसका कोई ठोस कारण सामने नहीं आया है।

------

यह भी पढ़ें: दूल्‍हा-दुल्‍हन ले रहे थे फेरे, तभी युवती ने कर दिया हंगामा, खुलासा हुआ तो लौट गई बरात

 

सीबीआइ की याचिका पर डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत को नोटिस

डेरे में साधुओं को ईश्वर से मिलवाने के नाम पर नपुंसक बनाए जाने के मामले में सीबीआइ की ट्रायल कोर्ट द्वारा केस डायरी डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत को दिए जाने के आदेशों को सीबीआइ ने हाई कोर्ट में चुनौती दे दी है। हाई कोर्ट ने सीबीआइ की याचिका पर डेरा मुखी को 25 अगस्त के लिए नोटिस जारी कर जवाब मांग लिया है। 

यह भी पढ़ें: एक्‍सक्‍लुसिव: राफेल आ रहा है, घर की छत पर पक्षियों के लिए न रखें दाना-पानी

गौरतलब है कि हाई कोर्ट ने ही डेरे में साधुओं को नपुंसक बनाये जाने के मामले की सीबीआइ जाँच के आदेश दिए थे। सीबीआइ ने मामले की जांच कर हाई कोर्ट में सीलबंद स्टेटस रिपोर्ट दे दी थी। यह केस अब पंचकूला की ट्रायल कोर्ट में चल रहा है। ट्रायल कोर्ट ने हल ही में डेरा मुखी की एक अर्जी पर इस मामले की केस डायरी उसे सौंपे जाने के सीबीआइ को आदेश दिए थे। सीबीआइ ने इसी आदेश को अब हाई कोर्ट में चुनौती देते हुए इसे रद्द किये जाने की मांग की है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


 

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप