संवाद सहयोगी, महम :

बारिश के मौसम में महम की सड़कों पर बने गहरे गड्ढे जानलेवा हो सकते हैं। अधिकारियों की लापरवाही से कस्बावासियों की जान जोखिम में बनी हुई है। रात के समय जोखिम और भी बढ़ गया है। मंगलवार को दैनिक जागरण की टीम ने रात के समय बारिश के मौसम में कुछ स्थानों का जायजा लिया। दैनिक जागरण की टीम 11 बजकर 20 मिनट पर कस्बे के पुराना बस स्टैंड पर पहुंची। जहां पर कस्बे के मुख्य बाजार में जाने वाले रास्ते के बीचोंबीच गंदे नाले का ढक्कन खुला हुआ था। जिसमें एक दुपहिया वाहन चालक गिरने से बच गया और वह अधिकारियों को कोसता हुआ गुजर गया। वहीं, नए बस स्टैंड के चौराहे पर सड़क में बने गड्ढों में गिरकर भी वाहन चालक चोटिल हो सकते हैं। 11 बजकर 40 मिनट पर टीम ने फरमाणा चुंगी से सैमाण चुंगी तक का रुख किया। पुराने बाईपास पर सीवरेज रुकने व नालों की सफाई नहीं होने से सड़क पर गंदा पानी जमा था। इस रोड से वाहनों की आवा जाही रोकी हुई थी।

--

अनदेखी पड़ सकती है भारी

दैनिक जागरण की टीम ने देखा की थोडी से बारिश आने के बाद नाले के खुले मैनहोल के ऊपर से पानी बहता रहता है। अनजान व्यक्ति को खुले ढक्कन का अहसास नहीं होने पर वह इसमें गिरकर चौटिल हो सकता है। नगरपालिका इस पर ढक्कन लगवा दे तो लोगों की जान बचाई जा सकती है।

बाईपास पर अलग नजारा

हिसार बाईपास पर बने गंदे नाले का नजारा अलग ही नजर आता है। नगरपालिका पीडब्ल्यूडी के नाले कहती है जबकि पीडब्ल्यूडी विभाग ने इन नालों को बनाकर नगरपालिका को सौंपा हुआ है। पीडब्ल्यूडी विभाग के एसडीओ ने कहा है कि उनका विभाग नाले केवल रोड का पानी निकालने के लिए बनाए जाते हैं लेकिन इन नालों में कस्बे का पानी आता है। इस कारण सफाई का कार्य भी नगरपालिका का ही होगा। पानी निकासी नहीं होने के कारण बड़ा हादसा हो सकता है। देर रात साढ़े बारह बजे टीम घर के लिए रवाना हुई।

Edited By: Jagran