मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

रोहतक, जेएनएन। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के घर पर शुक्रवार सुबह CBI ने छापा मारा। CBI की टीम ने उनके शहर के डी-पार्क स्थित घर पर छापा मारा और जांच में जुटी रही। घर में पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा भी मौजूद थे। घर के अंदर न तो किसी जाने दिया गया और न ही किसी को बाहर निकलने दिया गया। इसके अलावा दिल्‍ली व एनसीआर में 20 अन्‍य ठिकानों पर भी एक साथ छापे मारे जा गए। सीबीआइ की टीम के जाने के बाद हुड्डा ने कहा कि राजनीतिक द्वेष से यह सब किया जा रहा है। हम इससे दबने वाले नहीं हैं। हुड्डा की जींद में उनचुनाव के मद्देनजर रैली थी, लेकिन सीबीआइ के छापे के कारण इसमें भाग नहीं ले सके।

सीबीआइ टीम ने शुक्रवार सुबह से दोपहर बाद तक जांच की। सीबीआइ टीम के घर से जाने के बाद भूपेंद्र सिंह हुड्डा बाहर आए और अपने समर्थकों से रूबरू हुए। पत्रकारों से बातचीत मेें उन्‍होंने कहा कि सीबीअाइ की टीम उनके घर में सर्च करने आई थी। टीम को घर से एेसा कुछ नहीं मिला जिस पर सवाल उठाया जा सके। हुड्डा ने कहा, सीबीआइ ने मुझसे कोई पूछताछ नहीं की। सीबीआइ की टीम सर्च करने आई थी आैर हमने पूरे घर की तलाशी कर ली।

सीबीआइ टीम के अपने घर से जाने के बाद समर्थकों के जाने के बाद समर्थकों से रूबरू भूपेंद्र सिंह हुड्डा।

एक सवाल के जवाब में उन्‍होंने कहा कि जींद में आयोजित कांग्रेस की रैली में सीबीआइ छापे के कारण नहीं जा सके। लेकिन कांग्रेस के उम्‍मीदवार रणदीप सुरजेवाला की स्‍िथति बहुत अच्‍छी है और वह जींद उपचुनाव भारी मतों से जीतेंगे। इससे पहले सीबीआइ छापे की जानकारी मिलने के बाद कांग्रेस के कई वरिष्‍ठ नेता आैर काफी संख्‍या में कार्यकर्ता हुड्डा के घर के बाहर पहुंचे और नारेबाजी की। CBI टीम के जाने के बाद हुड्डा जींद के लिए रवाना हुए।

पूर्व स्‍पीकर कुलदीप शर्मा का अारोप, जींद उपचुनाव के कारण हुई CBI की कार्रवाई

वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता और विधानसभा अध्‍यक्ष कुलदीप शर्मा ने कहा है कि यह कार्रवाई जींद के उपचुनाव को प्रभावित करने के लिए किया गया है। भाजपा किसी भी तरीके से जींद का उपचुनाव जीतना चाहती है और इसी कारण ये कार्रवाई की गई है। जींद में आज भूपेद्र सिंह हुड्डा की रैली है और यह कार्रवाई हुड्डा को इस रैली में रोकने के लिए ही की गई है। हुड्डा के खिलाफ कार्रवाई  राजनीतिक द्वेष की भावना से की गई है। हुड्डा के अावास पर पूर्व मंत्री गीता भुक्‍कल आैर विधायक करण सिंह दलाल भी पहुंचे।

भूपेंद्र सिंह हुड्डा के घर पर CBI छापे पर प्रतिक्रिया देत कुलदीप शर्मा।

दीपेंद्र हुड्डा बोले, जीेंद रैली में जाने से रोकने के लिए CBI से छापा डलवाया गया

बता दें कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा जींद में उपचुनाव के दौरान आज वहां रैली को संबो‍धित करनी है, लेकिन CBI की कार्रवाई के कारण उन्हें काफी देर तक घर पर ही रुकना पड़ा। उन्होंने भाजपा सरकार पर राजनीतिक साजिश के तहत CBI छापे डलवाने की बात कही।  उन्होंने कहा कि CBI चार साल से छापेमारी कर रही है लेकिन उनको कुछ नहीं मिला है। CBI ने हुड्डा को जींद रैली में जाने से रोकने के लिए यह छापा मारा है।

इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भूपेंद्र सिंह हुड्डा के पक्ष में नारे लगाए। कार्यकर्ताओं ने भाजपा सरकार के खिलाफ की जमकर नारेबाजी की। इससे पहले सांसद दीपेंद्र हुड्डा जींद रैली के लिए रवाना हुए। दीपेंद्र ने कहा, भाजपा ने यह द्वेष पूर्ण कार्रवाई की है। यह भूपेंद्र हुड्डा को जींद के लिए रोकने की साजिश थी। मैं जींद रैली में हुड्डा का संदेश पहुंचाऊंगा। भाजपा कितना ही जोर लगा ले  हम न तो डरने वाले हैं और न ही चुप होने वाले। हम ऐसे ही उठाते आवाज रहेंगे।

बताया जाता है कि CBI ने भूमि घोटाला मामले में यह कार्रवाई की है। CBI की एक टीम सुबह दो गाडि़यों में शहर डी पार्क क्षेत्र में पहुंची और हुड्डा के घर का दरवाजा खुलवाकर सीधे अंदर घुस गई। CBI टीम ने पूरे परिसर को सील कर दिया। दो गाड़ियों में सवार होकर पहुंची CBI टीम के सदस्‍यों ने घर के अंदर न तो किसी को जाने दिया अौर न ही किसी को निकलने दिया। इससे पहले भी CBI की टीम भूपेंद्र सिंह हुड्डा के मकान पर जांच कर चुकी है।

इसके अलावा, कथित भूमि घोटाले से जुड़े केस में CBI दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में 20 से ज़्यादा ठिकानों पर छापे मार रही है। बताया जाता है ये ठिकाने भूपेंद्र सिंह हुड्डा से जुड़े हुए हैं। सीबाआइ की छापेमारी से राेहतक शहर में सनसनी फैल गई। इस बारे में सूचना मिलने के बाद हुड्डा और कांग्रेस समर्थक पूर्व सीएम के घर के पास जुटने लगे।

बताया जाता है कि हुड्डा के घर पर भूमि घोटाले के सिलसिले में छापा मारा गया है। CBI के अधिकारी पूरे घर की तलाशी ले रहे हैं और घर में माैजूद लोगों से पूछताछ की जा रही है। घर के अंदर मौजूद पूर्व मुख्‍यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा से भी पूछताछ किए जाने की सूचना है। CBI ने पूरे मकान को अपने घेरे में ले रखा है।

छापे की जानकारी मिलने के बाद पहुंचे वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता रघुबीर सिंह कादियान।

बेरी से विधायक रघुवीर सिंह का कादियान सहित कई वरिष्‍ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा के घर के बाहर पहुंचे हैं। काफी संख्‍या में शहर के लोग हुड्डा के घर के बाहर मौजूद हैं और सीबाआइ की कार्रवाइ के बारे में पता लगाने की काेशिश कर रहे हैं।

हुड्डा के मकान में ताले खुलवाने क‍े लिए बुलाए गए कारीगर।

CBI ने ताले खुलवाने के लिए दो कारीगर बुलाए, करीब 10 अलमारियों को खुलवाया

हुड्डा के घर के अंदर ताला खुलवाने के लिए एक कारीगर को ले जाया गया।  हुड्डा के मकान में CBI ने ताले न खुलने पर कारीगर को बुलाया। वहां ताला खोलने वाले दो कारीगरों को बुलाया गया। कारीगर कुलदीप और दारा सिंह को मकान के अंदर ले जाया गया। दोनों ने मकान से बाहर अाने के बाद बताया कि CBI टीम ने उनसे करीब 10 अलमारियों के ताले खुलवाए।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन

हु्ड्डा के घर के बाहर प्रदर्शन करते कांग्रेस कार्यकर्ता।

भूपेंद्र सिंह हुड्डा के घर पर CBI द्वारा छापे मारने की सूचना के बाद काफी संख्‍या में कांग्रेस और हुड्डा समर्थक जमा हो गए। उन्‍होंने घर के बाहर नारेबाजी करनी शुरू कर दी। वहां पहुंचे कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं का कहना था कि यह कार्रवाई भाजपा सरकार के इशारे पर राजनीति बदले के लिए की गई है। कार्यकर्ताओं ने भाजपा सरकार विरोधी नारेबाजी की और इस कार्रवाई को साजिश बताया।

यह भी पढ़ें: रोहतक के पास अजमेर-चंडीगढ़ गरीब रथ में डकैती, बगल की बाेगी में सोते रहे सुरक्षा जवान

CBI ने इससे पहले 2016 में गुड़गांव के भूमि सौदों पर जस्टिस एसएन ढींगरा आयोग द्वारा रिपोर्ट सौंपने के दो दिन बाद हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के घर पर CBI ने छापा मारा था। CBI ने यह छापेमारी मानेसर के जमीन घोटाले और पंचकूला भूमि आबंटन मामले में मारा गया था। CBI ने हुड्डा के घर समेत करीब 24 ठिकानों पर छापेमारी की थी।

उस समय CBI ने हुड्डा के घर से कई दस्तावेज बरामद किए थे। बताया जाता है कि इनमें बैंक ट्रांजेक्शन के डॉक्यूमेंट भी शामिल थे। इनके अलावा CBI ने जमीन से जुड़े भी कई दस्तावेज बरामद किए थे। बताया जा रहा है कि छापा हुड्डा सरकार के समय तीन गांवों की करीब 400 एकड़ जमीन अधिग्रहण के बाद बिल्डरों को बेचने का मामले में मारा गया था। सितंबर 2015 में इस मामले में विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के कार्यकाल में अधिग्रहण की प्रक्रिया चली थी। इस संबंध में पहले गुड़गांव पुलिस ने मामला दर्ज किया था। बाद में राज्य सरकार ने इसे CBI को सौंप दिया था।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


 

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप