जागरण संवाददाता, रोहतक : रोडवेज बस में मिले नशीले पदार्थ से भरे बैग को लेकर तस्करी का मामला भी सामने आ रहा है। पुलिस को आशंका है कि कहीं रोडवेज बसों में इस तरह बैग रखकर नशीले पदार्थों की तस्करी तो नहीं हो रही है। इसकी गहनता से जांच के लिए पुलिस पिछले दो दिनों बस स्टैंड पर आने वाले हर बस की चेकिग कर रही है। संदिग्ध लोगों से पूछताछ भी की जा रही है। पुलिस यह भी मानकर चल रही है कि कोरोना संक्रमण की वजह से बस स्टैंड पर हर समय पुलिसकर्मी तैनात रहते हैं। ऐसे में आशंका है कि कोई व्यक्ति नशीले पदार्थ की खेप लेकर आया हो और पुलिस को देखकर वह बस में बैग छोड़कर निकल गया। इसकी छानबीन के लिए बस स्टैंड पर लगे सीसीटीवी कैमरे भी खंगाले जा रहे हैं। खासकर आगरा की तरफ से आने वाली बसों पर पूरी निगाह रखी जा रही है। क्योंकि जिस बस में नशीले पदार्थ की खेप मिली थी वह बस भी आगरा से सीधे रोहतक आई थी। पुलिस के अनुसार, बैग से बरामद हुई चरस की कीमत सात लाख रुपये से अधिक है। फिलहाल हर बिदू पर जांच की जा रही है।

यह था मामला

12 जनवरी की शाम करीब पौने छह बजे रोहतक डिपो की एक बस आगरा से आई थी। सवारियों के उतरने के बाद परिचालक संदीप ने देखा कि बस के अंदर एक बैग रखा हुआ है। उसने काफी देर तक सवारी का इंतजार किया। इसके बाद बैग को यार्ड शाखा में जमा करा दिया गया था। दो दिन तक वहां पर भी कर्मचारियों ने इंतजार किया कि बैग का कोई मालिक आ जाए, लेकिन कोई भी बैग लेने नहीं पहुंचा था। शुक्रवार को बैग खोलकर देखा तो उसमें 19 पैकेज मिले, जिन पर टेप लगी हुई थी। उनके अंदर 7 किलो 660 ग्राम चरस बरामद हुई थी। इसके बाद अज्ञात के खिलाफ अर्बन एस्टेट थाने में मामला दर्ज कराया गया था।

जल्द ही मामले का पर्दाफाश कर दिया जाएगा

नशीले पदार्थ से भरे बैग के मामले में हर बिदू पर जांच की जा रही है। बस स्टैंड पर लगे सीसीटीवी कैमरे भी खंगाले जा रहे हैं। इसके अलावा बस स्टैंड पर आने वाली सभी बसों की चेकिग के लिए पुलिसकर्मियों को लगाया गया है। प्रयास किया जा रहा है कि जल्दी ही मामले का पर्दाफाश कर दिया जाएगा

- एएसआइ सुरेंद्र कुमार, चौकी प्रभारी नया बस स्टैंड

Edited By: Jagran