मंडी आदमपुर [डीपी बिश्नोई]। फ्यूचर मेकर लाइफ केयर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के जरिये करोड़ों का साम्राज्य खड़ा करने वाले राधेश्याम की कहानी किसी फिल्मी स्टोरी से कम नहीं है। मूलरूप से आदमपुर के गांव सीसवाल निवासी राधेश्याम करीब 10 साल पहले दर्जी का काम करता था और लोगों के कपड़े सिलता था। बाद में सिलाई का काम छोड़कर आदमपुर की राज सिनेमा मार्केट में राम-श्याम के नाम से प्रॉपर्टी डीलिंग का कार्यालय खोला और प्रॉपर्टी की खरीद-फरोख्त से लाखों रुपये कमाए।

प्रॉपर्टी डीलिंग का धंधा मंदा होने के बाद राधेश्याम आरसीएम सहित अन्य नेटवर्किंग कंपनियों से जुड़ गया। कंपनियों की मीटिंग में वह लोगों को मोटीवेट भी करता था। उसे एक मीङ्क्षटग को मोटीवेट करने के लिए 10 से 15,000 रुपये मिलने लगे। उसने देखा कि हर कंपनी ग्राहकों से स्कीमों के माध्यम से प्रति माह करोड़ों रुपये कमा रही है तो उसने भी कंपनी खोलने की ठान ली।

इसके बाद 2015 में हिसार में फ्यूचर मेकर लाइफ केयर प्राइवेट लिमिटेड नाम से कंपनी खोली और लोगों को इसमें निवेश के लिए मोटीवेट करने लगा। देखते ही देखते कुछ ही दिनों में कंपनी के हजारों से लाखों सदस्य बन गए और कंपनी का नेटवर्क देश के विभिन्न राज्यों में फैल गया। इससे थोड़े समय में ही राधेश्याम अरबों रुपयों का मालिक बन गया।

तेलंगाना पुलिस ने खंगाला राधेश्याम का घर

तेलंगाना पुलिस ने शनिवार को गांव सीसवाल स्थित राधेश्याम के घर में दबिश दी। पुलिस आरोपित नरेश शर्मा को साथ लेकर यहां पहुंची थी। पुलिस ने कई घंटे तक घर की तलाशी ली। साथ ही पड़ोसियों से भी पूछताछ की। परिजनों ने बताया कि राधेश्याम बेकसूर है और उसने कोई धोखाधड़ी नहीं की। उसकी कंपनी तो सरकार को करोड़ों रुपये का राजस्व दे रही है। इसी सप्ताह कंपनी ने 26 करोड़ रुपये का टैक्स अदा किया। उसे साजिश के तहत फंसाया जा रहा है।

उधर, एसीपी सुधीर कुमार ने बताया कि घर से किसी तरह के कागजात या सामान बरामद नहीं हुआ है। बता दें कि तेलंगाना पुलिस ने शुक्रवार को गुरुग्राम से राधेश्याम और नरेश शर्मा को गिरफ्तार किया था। वहीं हिसार में रेड स्क्वेयर मार्केट स्थित कंपनी मुख्यालय को भी सील कर दिया था। इस दौरान पुलिस ने मुख्यालय से कुछ जरूरी कागजात और लेपटॉप अपने कब्जे में लिए थे।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt