जागरण संवाददाता, रोहतक : फसलों के बकाया भुगतान सहित तमाम मांगों को लेकर मंगलवार को किसानों ने शहर में प्रदर्शन किया। अखिल भारतीय किसान सभा की जिला इकाई ने किसानों को नेतृत्व किया। सभा की अगुवाई में किसान छोटूराम चौक से प्रदर्शन करते हुए लघु सचिवालय तक पहुंचे। जहां पर उन्होंने एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। इससे पहले किसानों ने छोटूराम धर्मशाला में बैठक भी की। दावा किया जा रहा है कि बैठक में उचित शारीरिक दूरी के नियम का पालन किया गया।

बैठक की अध्यक्षता किसान नेता प्रीत सिंह ने की जबकि संचालन प्रेम सैमाण ने किया। उन्होंने कहा कि जब तक किसानों की मांगें पूरी नहीं होगी तब तक आंदोलन जारी रहेगा। किसान सभा के जिला सचिव सुमित व जिला उपप्रधान जोगेंद्र बनियानी ने कहा कि जिला प्रशासन किसानों की मांगों के प्रति उदासीन बना हुआ है। जिस कारण किसान हर रोज समस्याओं को हल करवाने के लिए सड़कों पर उतरने को मजबूर हैं। खेती करने वाला आज भारी संकट में है। ओलावृष्टि बेमौसमी बारिश से धान व गेहूं की बर्बाद फसलों का मुआवजा बांटने में प्रशासन जानबूझकर देरी कर रहा है। गन्ने की फसल का करोड़ों रुपये का बकाया भुगतान अभी तक नहीं किया गया है। जिससे किसानों में रोष बना हुआ है। इसी रोष को प्रकट करने के लिए किसान सड़कों पर उतरने को मजबूर हो रहे हैं। कैप्टन शमशेर मलिक व बलवान सिंह ने कहा कि ये सरकार की नीतियों से आम आदमी पर दोहरी मार पड़ रही है। पेट्रोल-डीजल की कीमतों ने लोगों को बड़ा झटका दिया है। ज्ञापन देने वालों में मायना, करोंथा, पहरावर, बालंद, बनियानी, बलम, गद्दी खेड़ी, सैमाण व बहुअकबरपुर आदि गांवों के किसान शामिल रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस