जागरण संवाददाता, रोहतक : जिले में तीन स्थानों पर नाबालिग लड़कियों की शादी को जिला संरक्षण एवं बाल विवाह निषेध अधिकारी की टीम ने रुकवा दिया। साथ ही अभिभावकों से शपथ पत्र लेकर हिदायत दी गई कि बालिग होने के बाद ही लड़कियों की शादी करनी होगी।

जिला संरक्षण एवं बाल विवाह निषेध अधिकारी करमिद्र कौर ने बताया कि पुलिस कंट्रोल रूम में सूचना मिली थी कि कलानौर थाना क्षेत्र के एक गांव में दो नाबालिग लड़कियों की शादी कराई जा रही है। इस पर दुर्गा शक्ति और संबंधित थाना पुलिस को लेकर मौके पर पहुंचकर जांच की। एक लड़की की उम्र 17 साल और दूसरी की उम्र 17 साल नौ महीने मिली। लड़कियों के अभिभावकों से पूछताछ की गई, जिसमें बताया कि गरीबी व खराब माहौल के चलते वह जल्दी से जल्दी लड़कियों की शादी करना चाहते थे। हालांकि बाद में टीम ने अभिभावकों को समझाया कि नाबालिग की शादी नहीं कराई जा सकती।

इसके अलावा महम थाना क्षेत्र के एक गांव में भी नाबालिग लड़की शादी की तैयारियां की जा रही थी। जांच में पता चला कि बड़ी बहन बालिग है, जिसकी शादी होने वाली है। अभिभावक अपनी छोटी बेटी की भी शादी करने की तैयारी में थे। टीम ने उन्हें भी हिदायत दी। बाल विवाह निषेध अधिकारी करमिद्र कौर ने लोगों से भी अपील की है कि आसपास ऐसा कोई करता है तो पुलिस को सूचना दें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस