जागरण संवाददाता, रोहतक : अतिक्रमण और जाम से निजात दिलाने के लिए शहरी क्षेत्र में स्ट्रीट वेंडर जोन तय करने की तैयारी है। मंगलवार को नगर निगम के आयुक्त की अध्यक्षता में अहम बैठक होगी। इसमें वेडिग प्लान पर मंथन होगा। शहरी क्षेत्र में पहले ही तय हो चुके 10 वेडिग जोन पर फैसला लिया जाएगा। यदि कहीं वेडिग जोन बढ़ेंगे या फिर अन्य स्थान तय किए जाएंगे इसे लेकर चर्चा होगी। वहीं, एक जुलाई से नगर निगम प्रशासन स्ट्रीट वेडरों के लिए प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्म निर्भर निधि(पीएम स्वनिधि) योजना की योजना भी शुरू होगी।

नगर निगम के सिटी प्रोजेक्ट आफिसर जगदीश चंद्र ने बताया है कि शहरी क्षेत्र में 3755 स्ट्रीट वेंडरों का पंजीकरण कराया गया था। अब सभी स्ट्रीट वेंडरों की जांच की गई। फिलहाल मौके पर 901 स्ट्रीट वेंडर पाए गए हैं। इनमें 37 महिलाएं और 864 पुरूष वेंडर मिले हैं। इनमें से 693 को पहचान-पत्र दिए गए हैं। इसके साथ ही नगर निगम रोहतक वेबसाइट पर पूरी लिस्ट डाल दी गई है। एक सप्ताह के अंदर कोई भी व्यक्ति दावे-आपत्तियां दर्ज करा सकेंगे। सोमवार से आंबेडकर चौक स्थित नगर निगम कार्यालय में संपर्क कर सकेंगे।

12 किश्तों पर 10 हजार रुपये का पा सकेंगे लोन

एक जुलाई से शुरू होने वाली पीएम स्वनिधि योजना में स्ट्रीट वेंडर एक साल के लिए 10 हजार का सात फीसद सब्सिडी पर पा सकेंगे। प्रदेशभर में करीब एक लाख स्ट्रीट वेंडर हैं। इन सभी को योजना का लाभ मिलेगा। नगर परिषद, नगर पालिका और नगर निगम के कार्यक्षेत्र में आने वाले स्ट्रीट वेंडरों को योजना का लाभ मिलेगा। योजना के तहत डिजिटल भुगतान के बाद प्रति माह 100 रुपये तक की बचत हो सकेगी। सिटी प्रोजेक्ट आफिसर जगदीश चंद्र का कहना है कि वेंडर सही समय पर रकम वापस करेंगे तो उन्हें अगले साल 20 हजार रुपये का सब्सिडी पर लोन मिलेगा। इससे अगली बार 50 हजार रुपये का लोन मिलेगा।

मंगलवार को स्ट्रीट वेंडर जोन घोषित करने के लिए अहम बैठक होगी। इसमें शहर के वेडिग प्लान पर मंथन किया जाएगा।

जगदीश चंद्र, सिटी प्रोजेक्ट आफिसर, नगर निगम

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस