जागरण संवाददाता, रोहतक :

अखिल भारतीय जाट सूरमा स्मारक महाविद्यालय में सोमवार को रसायन शास्त्र विभाग की ओर से अंतरराष्ट्रीय महिला व बालिका विज्ञान दिवस पर विशेष व्याख्यान का आयोजन किया गया। व्याख्यान में मुख्य अतिथि के तौर पर एमडीयू के रसायन शास्त्र विभाग की अध्यक्ष प्रोफेसर डा. विनोद बाला तक्षक ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की। कालेज प्राचार्या डा. संगीता दलाल व डा. रविदेव, डा. रमेश डबास व डा. सुशीला डबास ने मुख्य अतिथि को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया।

मुख्य अतिथि ने बताया आज विज्ञान शोध क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाना जरूरी है। उन्होंने विज्ञान क्षेत्र की महिला महान विभूतियों के जीवन व उपलब्धियों के बारे में बताते हुए विद्यार्थियों को प्रेरित किया। अंतरराष्ट्रीय महिला एवं बालिका विज्ञान दिवस से महिलाओं व बालिकाओं के लिए विज्ञान के क्षेत्र में पहुंच बन सके। भविष्य में लैंगिक समानता प्राप्त करने व महिलाओं एवं बालिकाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य से किया गया है। प्राचार्या डा. संगीता दलाल ने बताया विकास के विभिन्न मापदंडों को पूरा करने में भारतीय महिलाओं का अहम योगदान है। लेकिन विज्ञान व प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में महिलाओं की हिस्सेदारी उम्मीद से काफी कम है। उन्होंने छात्राओं से कहा वे अपने आपको विज्ञान में शोध के लिए हमेशा तैयार रखें। जिसमें करियर के साथ जीवन में ऊंचाइयों को छू सकती हैं। कार्यक्रम के दौरान डा. विनोद बाला व डा. एसपी खटकड़ ने कालेज परिसर में पौधारोपण किया। इस मौके पर डा. सूर्यप्रकाश, डा. सुभाष, डा. जयवीर यादव, डा. रेणू मलिक, डा. अंशुल, डा. मोनिका, डा. राजेश ढुल, डा. सुनील जांगड़ा व विद्यार्थी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस