जागरण संवाददाता, रोहतक :

हरियाणा के 12 जिले ऐसे है, जहां स्नातक व स्नातकोत्तर युवाओं को रोजगार सरकार द्वारा दिया जा चुका है। अब प्रदेश में स्नातक अथवा स्नात्तकोतर डिग्री धारक कोई भी ऐसा युवक-युवती नहीं बचेगी, जिसे रोजगार या फिर सरकार की सक्षम हरियाणा योजना के तहत परिनियोजित न किया जाए। शेष बचे दस जिलों में भी स्नातक व स्नात्तकोतर डिग्रीधारकों को खाली नहीं रहने दिया जाएगा। इस योजना के तहत अब 12वीं पास युवाओं को भी शामिल गया गया है। इतना ही नहीं हर 18 से 35 वर्ष के युवाओं को ट्रेक किया जाएगा, उनके लिए भी रोजगार देने की योजना तैयार है। मुख्यमंत्री सोमवार को महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के टैगोर सभागार में आयोजित महा रोजगार मेले में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि इस योजना के तहत 35 वर्ष तक के युवक-युवतियों का डाटा तैयार किया जाएगा। इस डाटा के आधार पर देखा जाएगा कि 35 वर्ष तक के कौन-कौन से युवा पुस्तैनी कार्यों, स्वरोजगार, खेतीबाड़ी जैसे धंधे में लगे हुए हैं या फिर उन्हें सरकारी नौकरी मिल चुकी है। इस आंकड़े के आधार पर यह पता लग जाएगा कि ऐसी कितनी संख्या है जिन्हें 35 साल की उम्र होने पर भी रोजगार प्राप्त नहीं हुआ है। ऐसे सभी युवक-युवतियों का गैप कौशल विकास के माध्यम से दूर किया जाएगा और उन्हें रोजगार के अवसर उपलब्ध करवाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि अगले शैक्षणिक सत्र एक अप्रैल 2020 तक सरकार को पता लग जाएगा कि 35 वर्ष तक के बेरोजगारों की कितनी संख्या है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने फैमिली आइडी बनाने का कार्य भी आरंभ कर दिया है। इसका उद्देश्य यही है कि हरियाणा के युवाओं को हरियाणा में प्राथमिकता के आधार पर रोजगार दिलाया जा सके । कौशल विकास में 800 ऐसे कार्य, जिसमें अनपढ़ को भी मिलेंगे अवसर

उन्होंने कहा कि रोहतक में मेगा जॉब फेयर लगाया गया है जबकि राज्य सरकार फेयर तरीके से जॉब देने का कार्य कर रही है। अब नौकरियों में पर्ची व खर्ची का सिस्टम समाप्त हो चुका है। भाजपा सरकार में नौकरी देने में फेवर नहीं की जाती बल्कि फेयर व्यवस्था लागू की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर वर्ष नए युवा आएंगे, उन्हें अपना लक्ष्य तय करते हुए रोजगार पाने है। कौशल विकास के बहुत बड़े आयाम हैं जिसमें छोटे बड़े करीब 800 ऐसे कार्य हैं जिनमें अनपढ़ से लेकर उच्च शिक्षा धारकों के लिए अवसर उपलब्ध हैं। रोजगार देने वाले उद्योगों को दी जाएगी सब्सिडी

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने रोजगार मेले में पहुंची विभिन्न कंपनियों के प्रतिनिधियों को विश्वास दिलाते हुए कहा कि जो भी उद्योग प्रदेश में बेरोजगारों को रोजगार मुहैया करवाने की काम करेगी, उसे विभिन्न पहलुओं में सब्सिडी प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि अगर कोई उद्यमी हमारे नौजवानों को नया काम अथवा हुनर सिखाने के लिए लेकर जाता है तो उसे औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग के माध्यम से वित्तीय सहायता प्रदान करने का प्रावधान किया जाएगा। उन उद्योगों को सब्सिडी नहीं दी जाएगी, जो यहां माल बनाकर अन्य प्रदेशों में पहुंचाने का काम करेंगे। इससे सरकार को कोई फायदा नहीं पहुंचने वाला। पहले तो सरकार को वैट मिल जाता था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप