जागरण संवाददाता, रोहतक :

प्रदेश में 10 लाख स्मार्ट बिजली मीटर लगाए जाएंगे। यह बात बिजली निगम के मुख्य प्रबंध निदेशक (सीएमडी) शत्रुजीत कपूर आइपीएस ने कही। वे शनिवार को कैनाल रेस्ट हाउस में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि करनाल और गुरुग्राम में इसका कार्य शुरू हो चुका है। तीन से पांच साल में शहरी क्षेत्रों में स्मार्ट मीटर लगाने का कार्य पूरा कर लिया जाएगा। रोहतक में छह माह बाद इस पर कार्य शुरू होने की संभावना है। उन्होंने कहा कि करीब डेढ़ साल में निगम ने दो लाख चोरी के मामले पकड़े हैं। जिनमें बिजली चोरी के आरोपितों से 300 करोड़ की रिकवरी भी की गई है। उन्होंने बिजली निगम द्वारा चलाई जा रही बकाया बिल निपटान योजना को एक अनोखी योजना बताया। जिसके तहत थोड़ी सी देनदारी से डिफाल्टर उपभोक्ता कर्ज मुक्त हो सकता है। प्रदेश के लगभग सवा दो लाख उपभोक्ता अब तक इस योजना का लाभ उठा चुके हैं और रोजाना 20 से 25 हजार उपभोक्ता इस योजना से जुड़ रहे है। कपूर ने कहा कि योजना का लक्ष्य है कि 31 दिसंबर तक प्रदेश का कोई भी उपभोक्ता डिफाल्टर न रहे। उन्होंने कहा कि योजना में सकारात्मक भूमिका निभाने वाले सरपंचों को सम्मानित किया जाएगा। प्रदेश में दस लाख डिफाल्टर

हरियाणा में लगभग 10 लाख उपभोक्ता डिफाल्टर है। योजना की विशेषता यह है कि ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों के उपभोक्ताओं के लिए लागू की गई है बिल न देने पर जिस उपभोक्ता का कनेक्शन काट दिया गया है वह भी इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकता है। सीएमडी ने कहा कि सरपंचों व पंचों के लिए भी यह योजना एक सुनहरा अवसर लेकर आई है। सरपंच अपने गांव के डिफाल्टरों को योजना के तहत भुगतान करने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि जिस भी गांव से योजना के तहत पैसा मिलेगा वह राशि उसी गांव पर बिजली सुधार के लिए खर्च कर दी जाएगी। इन गांवों के सरपंच किए सम्मानित

उन्होंने बताया कि आज के कार्यक्रम में मोखरा के प्रमोद, आंवल के अनिल, खेरड़ी के भूपेंद्र ¨सह, बालंद के ओम प्रकाश (बल्लू), सांघी के सतीश व खरैंटी के महीपाल को सम्मानित किया गया है। म्हारा गांव जगमग गांव योजना का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यह योजना जुलाई 2015 में लागू की गई थी और प्रदेश में साढे 28 सौ ऐसे गांव है जिन्हें योजना के तहत 24 घंटे बिजली की आपूर्ति की जा रही है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जहां पर बिजली ट्रांसफार्मर कम ऊंचाई पर है उन्हें कांटे वाली तारों से कवर किया जाएगा। इस अवसर पर बिजली निगम के निदेशक ओके शर्मा, चीफ इंजीनियर वीएस मान व एसई सुरेश कुमार बंसल व देवव्रत शर्मा, अमनदीप ¨सह सहित आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran