जागरण संवाददाता, रेवाड़ी:

नशे का काला कारोबार करने वालों की अब खैर नहीं है। जिला पुलिस इस तरह के कारोबार में संलिप्त माफियाओं की संपत्ति की पूरी डिटेल जुटा रही है। बताया जा रहा है कि सरकार की तरफ से ऐसे निर्देश आए हैं जिसके बाद अब नशा कारोबारियों पर बड़ी कार्रवाई की तैयारी हो रही है।

पूरे प्रदेश में नशा का कारोबार तेजी से अपने पैर पसार रहा है। जिला भी इससे अछूता नहीं है। जिला में नशे का काला कारोबार सिर्फ शहर ही नहीं गांवों तक में भी अपने पैर पसार चुका है। हालात तो यहां तक बिगड़ चुके हैं कि गांवों में युवाओं को नशे से बचाने के लिए पंचायतें तक हो रही हैं। कुछ दिन पूर्व गांव जैनाबाद में पंचायत करके नशे का कारोबार रोकने को लेकर ग्रामीणों की टीमें गठित की गई थी। ाहर में सैकड़ों की तादाद में नशा सप्लाई करने वाले नौजवानों की टीम खड़ी कर दी गई है। इतना ही नहीं शाम ढलते ही शहर के हर चौक चौराहों पर नशे की पुड़िया मिलनी शुरू हो जाती है। जिला में स्मैक, चरस, गांजा से लेकर अन्य तमाम तरह का नशा बेचा जा रहा है। नशा कारोबारियों ने करोड़ों रुपये की संपत्ति बना ली है। अब सरकार व पुलिस इन नशा कारोबारियों को आर्थिक तौर पर भी दंडित करने का प्रविधान ला रही है जिसके चलते ही इनकी संपत्ति की जानकारी जुटाई जा रही है। इसके लिए खूफिया विभाग को पूरी जिम्मेदारी सौंपी गई है। खूफिया विभाग की टीम ने भी कई कारोबारियों की सूची आला अधिकारियों को सौंप दी है।

नशे का काला कारोबार करने वालों की संपत्ति की पूरी जानकारी जुटाई जा रही है। नशा कारोबारियों पर किस तरह की कार्रवाई आगे होनी है इसको लेकर उच्चाधिकारियों से ही निर्देश मिलेंगे। जिला में नशा बेचने और बिकवाने वालों पर लगातार नकेल कसी जा रही है तथा कई कारोबारी हमारी गिरफ्त में आ चुके हैं।

-राजेश कुमार, पुलिस अधीक्षक

Edited By: Jagran