संवाद सहयोगी, धारूहेडा: खुद को रक्षा मंत्री की बहन बताकर एक महिला व उसके साथियों ने महेंद्रगढ़ जिला के गांव चांदपुर निवासी व्यक्ति के बेटे को नौकरी दिलाने का झांसा देकर तीन लाख रुपये की ठगी की थी। ढाई साल पूर्व की गई ठगी की इस वारदात में अब जाकर धारूहेड़ा थाना पुलिस ने महिला सहित चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। मुकदमा गृह मंत्री अनिल विज के हस्तक्षेप के बाद दर्ज हो पाया है।

गृह मंत्रालय में नौकरी दिलाने का दिया था झांसा

थाना धारूहेडा पुलिस को को दी शिकायत में जिला महेंद्रगढ़ के गांव चंदपुरा निवासी जयवीर सिंह ने बताया है कि गांव मसानी निवासी सुलतान सिंह के मामा उनके पड़ोसी गांव अलवर के गांव जैतपुर में है। मामा के जरिये ही उनकी सुलतान सिंह से मुलाकात हुई थी। सितंबर 2019 में सुलतान सिंह उसके पास आया तथा कहा कि वह रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की बहन को जानता है तथा उनके बेटे राहुल की नौकरी गृह मंत्रालय में लगवा देगा। अगले दिन वह धारूहेड़ा गए तो वहां पर सुलतान सिंह ने बबीता नामक एक महिला से जयवीर की मुलाकात कराई। महिला बबीता ने कहा कि वह रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की बहन है तथा अपने भाई से कहकर वह नौकरी लगवा देगी। नौकरी के लिए महिला ने जयवीर से तीन लाख रुपये मांगे। जयवीर ने एडवांस के तौर पर पचास हजार रुपये उनको दे दिए। इसके बाद 25 नवंबर 2019 को प्रदीप नामक व्यक्ति का उनके पास फोन आया तथा कहा कि उनके बेटे राहुल की नौकरी गृह मंत्रालय में लगवा दी गई है तथा बाकी पैसे भी खाते में डलवाए जाएं। जयवीर ने बचे हुए ढाई लाख रुपये भी प्रदीप के खाते में डाल दिए। पैसे डालने के बाद राहुल के नाम से एक पहचान पत्र व ज्वाइनिग लेटर आरोपितों की तरफ से दिए गए जिनकी जांच की गई तो वह फर्जी निकले।

महिला सहित चार के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा

ठगी की इस घटना के बाद जयवीर आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए भटकता रहा, लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। जयवीर ने कुछ दिन पूर्व ही इस मामले की शिकायत गृह मंत्री अनिल विज को दी थी। गृह मंत्री कार्यालय से शिकायत जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय में पहुंची जिसके बाद अब मसानी गांव निवासी सुलतान सिंह, दिल्ली के पंजाबी बस्ती, बलजीत नगर निवासी हरि प्रताप सिंह, बबीता पत्नी हरि प्रताप सिंह और प्रदीप नामक युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

Edited By: Jagran