जागरण संवाददाता, रेवाड़ी: जिले में बृहस्पतिवार रात और शुक्रवार की सुबह भी जमकर वर्षा हुई। कई दिनों की भीषण गर्मी के बाद हुई वर्षा ने जहां राहत दी, वहीं शहर की सड़कों पर जलभराव से आम लोगों की परेशानी बढ़ी हुई है। बाजार में अधूरे नालों के कारण दुकानों के सामने वर्षा का पानी जमा होने से दुकानदारों के साथ ग्राहकों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

जिले में पिछले 24 घंटे के दौरान औसतन 51.28 मिलीमीटर (एमएम) वर्षा हुई। इनमें से धारूहेड़ा में सर्वाधिक 53 एमएम, नाहड़ में 49 एमएम, पाल्हावास में 48 एमएम, मनेठी में 43 एमएम, रेवाड़ी और कोसली में 42-42 एमएम तथा बावल में सबसे कम 35 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई। दो दिन तक हुई वर्षा के कारण पानी निकासी के पर्याप्त प्रबंध नहीं होने के कारण सड़क, गली मोहल्लों और नाले अवरुद्ध होने के साथ सीवर जाम से भी लोगों को जूझना पड़ रहा है। शहर के मुख्य स्थान ब्रास मार्केट, माडल टाउन, नाईवाली चौक, कंपनी बाग, कोनसीवास रोड, कालाका रोड, सेक्टर-पांच व बस स्टैंड सहित अन्य निचले इलाके वाले मोहल्लों में जलभराव के चलते सड़क पर पानी भरा रहा। ग्रामीण क्षेत्रों में भी पानी निकासी के प्रबंध नहीं होने से मुख्य सड़क पर ही पानी भरा हुआ है। वर्षा की स्थिति यही रहती है तो लोगों की परेशानियां और बढ़ेगी।

अधूरे नाले बन रहे परेशानियों का सबब :

शहर में कई जगह पानी बहाव के लिए नाले अधूरे बने हुए हैं। ऐसे में गली मोहल्लों से वर्षा का पानी या तो नालों में भरा हुआ है या फिर सड़कों पर ही जमा है। शहर के भाड़ावास गेट से पुरानी सब्जी मंडी मार्ग पर वर्षा का पानी निकासी के लिए नाले तो बनाए हुए हैं, लेकिन ये नाले कुछ दूरी पर जाकर दुकानों के बाहर बंद पड़े हैं। इससे वर्षा का पानी नालों में या सड़क पर भरा रहता है। बाजार में शुरू किया गया नाले का निर्माण भी अभी अधूरा पड़ा हुआ है। लंबे समय से पड़े अधूर कार्य के कारण दुकानदारों व बाजार में आने वाले लोगों को भी परेशानी उठानी पड़ रही है।

-----------

गड्ढे भरने के दिए निर्देश

उपायुक्त अशोक कुमार गर्ग ने शहरी व ग्रामीण क्षेत्र की सड़कों पर बने गड्ढों को तुरंत भरन के लिए निर्देश जारी किए है। उन्होंने कहा कि लोक निर्माण विभाग, पंचायती राज, शहरी निकाय, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण व हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड सहित अन्य संबंधित विभागों की सड़कों पर यदि अब गड्ढे हैं तो उनपर पैच वर्क तत्परता से किया जाना सुनिश्चित करें। वर्षा में पानी भरा होने की स्थिति में इन गड्ढों के कारण दुर्घटनाएं हो सकती हैं।

Edited By: Jagran