जागरण संवाददाता, रेवाड़ी : पुलिस विभाग में आए दिन उजागर हो रहे मामलों से एक बात स्पष्ट है कि भ्रष्टाचार की जड़े गहरी हो चुकी है। एक माह में एक सब इंस्पेक्टर व एक महिला एएसआइ को विजिलेंस रिश्वत लेने के आरोप में दबोच चुकी है। अब एक पुलिस इंस्पेक्टर पर मामला रफा-दफा करने के लिए एक आरोपित से रिश्वत लेने का आरोप लगा है। पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रिमांड पर लिया है। रिमांड के दौरान रिश्वत लेने की बात सामने आने के बाद इंस्पेक्टर छुट्टी लेकर चले गए। एसपी राजेश कुमार ने मामले की जांच कोसली डीएसपी मुकेश कुमार को सौंपी है। जांच में भ्रष्टाचार सामने आता है तो इंस्पेक्टर पर गाज गिरना तय है।

पुलिस ने कुछ दिन पहले चोरी का सामान पकड़ा था। सामान पकड़ने का मामला जुलाई का है, जबकि पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर दो आरोपितों को गिरफ्तार भी किया है। आरोपितों को पूछताछ के लिए अदालत से रिमांड पर लिया है। रिमांड के दौरान आरोपितों से मामला रफा-दफा करने के लिए रिश्वत लेने की बात सामने आई है। अब, पुलिस ने इस मामले में पुलिस ने भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा भी जोड़ दी है। आरोपितों की गिरफ्तारी होने और रिश्वत की बात कबूलने की जानकारी मिलने के बाद संबंधित इंस्पेक्टर छुट्टी लेकर चले गए।

------------

भ्रष्टाचार की बात सामने आई है और मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।

-मुकेश कुमार, डीएसपी कोसली।

Edited By: Jagran